लोकसभा चुनाव से पहले CAA लागू करने वाले अमित शाह के बयान पर बोले भूपेश बघेल- गरीब आदिवासी कैसे साबित करेंगे अपनी नागरिकता?

CAA: इस कानून को लेकर देश भर में बहुत विरोध प्रदर्शन भी देखने को मिला था, जिसके कारण इसे अभी तक लागू नहीं किया जा सकेगा.

chhattisgarh news

पूर्व सीएम भूपेश बघेल

Chhattisgarh News: भाजपा लोकसभा के चुनाव में पूरे जोर-शोर से लगी हुई है, इसी बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बड़ा बयान दिया है. अमित शाह ने कहा है कि लोकसभा चुनाव से पहले पूरे देशभर में नागरिकता संशोधन कानून ( CAA ) लागू किया जाएगा. गृह मंत्री ने ये बातें न्यूज चैनल के कार्यक्रम के दौरान कहीं. वहीं उनके बयान के बाद पूरे देशभर में बयानबाजी का दौर भी शुरू हो गया है.

गरीब आदिवासी कैसे साबित करेंगे – भूपेश

CAA लागू करने के गृह मंत्री के बयान सामने आने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री ने प्रतिक्रिया दी है. छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अमित शाह के बयान पर तंज कसते हुए कहा कि इसका नुकसान छत्तीसगढ़ प्रदेश को होगा. यहां तो आपको सर्टिफिकेट से साबित करना पड़ेगा की आप भारतीय हैं या नहीं. असम और अन्य जगह में लोगों के सर्टिफिकेट बना दिए गये हैं, लेकिन सवाल ये है कि गरीब आदिवासी अपनी नागरिकता कैसे साबित करेंगे?

2019 में पारित हुआ था CAA

बता दें कि भारतीय संसद में CAA को 11 दिसंबर 2019 को पारित किया गया था. इसके पक्ष में 125 वोट पड़े थे जबकि इसके खिलाफ 105 वोट भी पड़े थे. राष्ट्रपति ने इस विधेयक को 12 दिसंबर को मंजूरी भी दे दी थी. जिसके बाद ये कानून बन गया था. लेकिन इस कानून को लेकर देश भर में बहुत विरोध प्रदर्शन भी देखने को मिला था, जिसके कारण इसे अभी तक लागू नहीं किया जा सकेगा. लेकिन अब सरकार एक बार फिर इस कानून को लोकसभा चुनाव से पहले लागू करने की बात कह रही है.

किसे मिल सकेगी नागरिकता

नागरिकता संशोधन अधिनियम लागू होने के बाद नागरिकता देने का अधिकार पूरी तरीके से केंद्र सरकार के पास होगा. पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए सिख, हिंदू, जैन,बौद्ध, ईसाई और पारसी धर्म से जुड़े शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता दे दी जाएगी. जानकारी के मुताबिक 21 दिसंबर 2014 से पहले भारत में आकर बसे लोगों को ही नागरिकता मिलेगी.

ज़रूर पढ़ें