Delhi Liquor Scam: तिहाड़ से चलेगी दिल्ली सरकार, जेल नंबर-2 में रहेंगे अरविंद केजरीवाल, संजय सिंह को किया गया शिफ्ट

Delhi Liquor Scam: आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल तिहाड़ के जेल नंबर-2 में रहेंगे. इससे पहले यहां सांसद संजय सिंह को रखा गया था. उन्हें अब जेल नंबर-5 में शिफ्ट कर दिया गया है.

Delhi Liquor Scam

तिहाड़ से चलेगी दिल्ली सरकार

Delhi Liquor Scam: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं. राउज एवेन्यू कोर्ट ने सोमवार, 1 अप्रैल को केजरीवाल को 15 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. इससे पहले वह केंद्रीय जांच एजेंसी ईडी की हिरासत में थे.

जानकारी के मुताबिक, आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल तिहाड़ के जेल नंबर-2 में रहेंगे. इससे पहले यहां सांसद संजय सिंह को रखा गया था. उन्हें अब जेल नंबर-5 में शिफ्ट कर दिया गया है. वहीं,  केजरीवाल ने जेल में पढ़ने के लिए ‘रामायण’, ‘गीता’ और ‘हाउ प्राइम मिनिस्टर्स डिसाइड’ किताब की मांग की है. हालांकि मांग पर सीएम केजरीवाल को जेल में ये चीजें उपलब्ध कराई जाएंगी या नहीं, इसपर कोर्ट ने कोई फैसला नहीं दिया है.

ये भी पढ़ेंः 3500 करोड़ के नोटिस मामले में कांग्रेस को बड़ी राहत, लोकसभा चुनाव तक नहीं होगी कार्रवाई

ईडी ने कोर्ट में रखी अहम बातें

ईडी हिरासत खत्म होने के बाद आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल को राउज एवेन्यू कोर्ट की स्पेशल जज कावेरी बावेजा के सामने पेश किया गया था. जिसके बाद उन्हें 15 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है. वहीं सुनवाई के दौरान ईडी ने कई अहम बातें कोर्ट के सामने कही हैं. ईडी द्वारा कोर्ट में कहा गया है कि मुख्यमंत्री सवालों का जवाब नहीं दे रहे हैं. उनकी ओर से जांच में सहयोगी नहीं किया जा रहा है. वहीं, पेशी के लिए जाते वक्त अरविंद केजरीवाल ने पीएम नरेंद्र मोदी पर साधा निशाना है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जो कर रहे हैं, देश के लिए अच्छा नहीं है.

शराब कारोबारियों को पहुंचाया था लाभ!

कथित दिल्ली शराब घोटाले में अबतक चार बड़े नेता गिरफ्तार किए जा चुके हैं. कुछ दिनों पहले ईडी ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और बीआरएस नेता के. कविता को गिरफ्तार किया था. वहीं, आप नेता मनीष सिसोदिया और संजय सिंह को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है. आरोप है कि दिल्ली सरकार ने आबकारी नीति 2021-22 के जरिए शराब कारोबारियों को अनुचित लाभ पहुंचाया, जिससे सरकारी खजाने को नुकसान और आम आदमी पार्टी को फायदा हुआ.

ज़रूर पढ़ें