एक और शादी की चाहत में हैं बदरुद्दीन अजमल! सीएम हिमंता बोले- अभी कर लें, नहीं तो चुनाव बाद जेल जाएंगे

Himanta Biswa Sarma: असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने AIUDF प्रमुख बदरुद्दीन अजमल के एक और शादी करने वाले बयान पर तंज कसा है. सरमा ने कहा कि अगर वह शादी करना चाह रहे हैं तो चुनाव से पहले कर लें.

Badruddin Ajmal

मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा और एआईयूडीएफ प्रमुख बदरुद्दीन अजमल

Himanta Biswa Sarma: असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने AIUDF प्रमुख बदरुद्दीन अजमल के एक और शादी करने वाले बयान पर तंज कसा है. सरमा ने कहा कि अगर वह शादी करना चाह रहे हैं तो चुनाव से पहले कर लें. नहीं तो चुनाव के बाद एक से ज्यादा शादी करने पर जेल भेज दिया जाएगा. AIUDF चीफ ने कहा था कि वह बूढ़े नहीं हुए हैं और दूसरी शादी भी कर सकते हैं.

बता दें कि एक कार्यक्रम में बदरुद्दीन अजमल ने कांग्रेस नेता रकीबुल हुसैन के बयान पर कहा, “रकीबुल हुसैन ने कहा कि मैं बूढ़ा हो गया हूं… लेकिन मैं अभी भी शादी कर सकता हूं. अगर सीएम रोकेंगे तो भी मैं शादी कर सकता हूं. मेरे पास उतनी हिम्मत है.” अजमल के इस बयान पर हिमंत सरमा ने कहा कि अगर वह चुनाव से पहले दुल्हन ले आते हैं और शादी कर लेते हैं तो ठीक है.

“वो बुलाएंगे तो हम भी जाएंगे”

मुख्यमंत्री हिमंत सरमा ने आगे कहा, “अगर वह शादी में बुलाएंगे तो हम भी जाएंगे, क्योंकि अब तक यह गैरकानूनी नहीं है. मुझे जानकारी है कि उनकी एक पत्नी है. वह दो या तीन और शादियां कर सकते हैं लेकिन चुनाव के तुरंत बाद हम बहुविवाह बंद कर देंगे. पूरा ड्राफ्ट तैयार है. अगर वे अभी बुलाएंगे तो हम जाएंगे लेकिन चुनाव के बाद यह गैरकानूनी होगा. मैं इसे नहीं रोक रहा हूं, कानून है और अगर कोई कानून के साथ खिलवाड़ करेगा तो कानून कदम उठाएगा.”

बदरुद्दीन अजमल ने खुद को बताया था बलवान

28 मार्च को, बदरुद्दीन अजमल ने अपनी उम्र के बावजूद शादी के लिए अपनी पात्रता पर जोर देते हुए विवादास्पद टिप्पणी की थी, “आज भी मैं शादी करने के लिए युवा हूं… मुझमें ताकत है और मैं दोबारा शादी कर सकता हूं.” एआईयूडीएफ पार्टी प्रमुख ने 74 वर्ष से अधिक उम्र होने के बावजूद खुद को “बलवान अजमल” बताया था. अजमल की टिप्पणियों को कांग्रेस नेता और धुबरी से लोकसभा उम्मीदवार ने “तीसरे दर्जे का बयान” करार दिया और उनकी टिप्पणी की आलोचना की.

एक अन्य कांग्रेस नेता जाकिर हुसैन सिकदर ने अजमल की टिप्पणी पर हैरानी जताई और सवाल उठाया कि एक अनुभवी राजनेता इस तरह से कैसे बोल सकता है. सिकदर ने अजमल की उम्र और रमजान के महीने की पवित्रता बताते हुए उसकी पारिवारिक जिम्मेदारियों पर पर जोर दिया.

ज़रूर पढ़ें