Holi 2024: ‘कोई खेले रेल में, कोई खेले जेल में, होली गीत के बहाने मनोज तिवारी ने अरविंद केजरीवाल की कुछ इस तरह ली चुटकी

Manoj Tiwari: राष्ट्रीय राजधानी में अपने आवास पर होली समारोह के दौरान लोक गीत गाते हुए, मनोज तिवारी ने शराब नीति मामले में गिरफ्तार दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर गीत के जरिए कटाक्ष किया.

Manoj Tiwari Holi

भाजपा सांसद मनोज तिवारी

Manoj Tiwari: राष्ट्रीय राजधानी में अपने आवास पर होली समारोह के दौरान लोक गीत गाते हुए, भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने शराब नीति मामले में प्रवर्तन निदेशालय द्वारा उनकी गिरफ्तारी पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर गीत के जरिए कटाक्ष किया. ईडी द्वारा केजरीवाल की गिरफ्तारी का जिक्र करते हुए बीजेपी सांसद ने गाना गाया, ‘कोई खेले रेल में, कोई खेले जेल में.’ मनोज तिवारी ने अपने गानों के जरिए यह भरोसा भी जताया कि लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी फिर से सरकार बनाएगी.

इस बीच, जहां पूरा देश होली के जश्न के रंगों में सराबोर था, वहीं आम आदमी पार्टी के नेताओं ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले से जुड़े दिल्ली उत्पाद शुल्क नीति मामले में अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ अपना विरोध जारी रखा.

ये भी पढ़ें- Delhi News: दिल्ली के अलीपुर की एक फैक्ट्री में भीषण आग, 50 दमकल गाड़ियां मौके पर मौजूद

आतिशी ने इस साल होली नहीं मनाने का लिया संकल्प

वहीं दिल्ली की मंत्री और आप नेता आतिशी ने सोमवार को कहा कि उन्होंने इस साल रंगों से नहीं खेलने और होली नहीं मनाने का संकल्प लिया है और देशवासियों से क्रूरता और बुराई के खिलाफ लड़ाई में उनके साथ शामिल होने की अपील की है. दिल्ली मंत्री ने कहा, “होली सिर्फ एक त्योहार नहीं है, बल्कि बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है, क्रूरता पर न्याय का प्रतीक है. आज आम आदमी पार्टी का हर नेता दिन-रात इस बुराई, क्रूरता और अन्याय से लड़ रहा है.”

“देश और लोकतंत्र बचाने की लड़ाई”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए आतिशी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट में लिखा, “क्रूर तानाशाह ने दिल्ली के प्रिय मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जेल में डाल दिया है. आज, उन्होंने देश से लोकतंत्र को खत्म करने के अपने प्रयासों में कोई कसर नहीं छोड़ी है. मैं आप सभी से अपील अपील करती हूं कि इस होली पर आप सभी क्रूरता और बुराई के खिलाफ इस लड़ाई में हमारे साथ शामिल हों. यह सिर्फ AAP के लिए नहीं, बल्कि पूरी दिल्ली और देश के लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई है.”

ज़रूर पढ़ें