Sushil Kumar Modi Cancer: पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी को हुआ कैंसर, कहा- ‘चुनाव में कुछ कर नहीं पाऊंगा, PM को सब कुछ बता दिया’

Sushil Kumar Modi Cancer: पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी अब इस बार के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के लिए सक्रिय नहीं रहेंगे. उन्होंने अपनी बीमारी हवाला देते हुए यह फैसला किया है.

Sushil Kumar Modi

पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी

Sushil Kumar Modi Cancer: बीजेपी के वरिष्ठ नेता और बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी बीते छह महीने से कैंसर से पीड़ित हैं. उन्होंने अपने सोशल मीडिया प्लेट फॉर्म पर पोस्ट कर इसकी जानकारी दी है. उन्होंने अपने सोशल मीडिया पर यह जानकारी साझा करत हुए लिखा, ‘पिछले 6 माह से कैंसर से संघर्ष कर रहा हूं. अब लगा कि लोगों को बताने का समय आ गया है. लोक सभा चुनाव में कुछ कर नहीं पाऊंगा.’

पूर्व डिप्टी सीएम ने यह जानकारी साझा करते हुए लिखा, ‘PM को सब कुछ बता दिया है. देश, बिहार और पार्टी का सदा आभार और सदैव समर्पित.’ अब उनके इस पोस्ट से स्पष्ट हो गया है कि वह इस बार लोकसभा चुनाव में सक्रिय नहीं रहेंगे. इसकी जानकारी उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी और पार्टी हाईकमान को दे दी है. सक्रिय राजनीति में आने के बाद यह पहली बार होगा जब सुशील मोदी पार्टी के लिए अपनी सेवाएं नहीं दे पाएंगे.

कब शुरू हुआ सियासी सफर

सुशील कुमार मोदी का सियासी सफर जेपी आंदोलन से शुरू हुआ था. बिहार में 70 के दशक से उन्होंने अपना सियासी सफर शुरू किया था. वह पहली बार 1971 में आरएसएस से जुड़े थे. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में भी सुशील कुमार मोदी कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे हैं. जब लालू यादव पटना विश्वविद्यालय में छात्र संघ के अध्यक्ष और रविशंकर प्रसाद संयुक्त सचिव थे उस वक्त सुशील कुमार मोदी 1973 से 1977 तक महामंत्री के पद पर रहे थे.

ये भी पढ़ें: Manmohan Singh: कौन हैं पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह? जानें कैसे हुई थी राजनीति में एंट्री, सियासत से पहले अर्थशास्त्री के तौर पर मनवा चुके हैं लोहा

1990 में उन्होंने पटना केन्द्रीय विधानसभा क्षेत्र पहली बार चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की थी. इसके बाद वह 2004 में वह भागलपुर से लोकसभा चुनाव लड़े और जीत दर्ज की थी. लेकिन 2005 में लोकसभा से इस्तीफा दिया और बिहार के डिप्टी सीएम के तौर पर अपना काम शुरू किया. इसके बाद विधान परिषद के लिए निर्वाचित किए गए. वह 2013 तक बिहार के डिप्टी सीएम के तौर पर काम करते रहे. उन्हें सीएम नीतीश कुमार के करीबी नेताओं में गिना जाता था.

ज़रूर पढ़ें