Lok Sabha Election: वरुण गांधी का क्या होगा? पहले चरण की नामांकन प्रक्रिया कल से शुरू, राहुल के करीबी रहे इस नेता को मिल सकता है मौका!

UP Lok Sabha Election 2024: BJP बची हुई सीटों पर मौजूदा सांसदों की जगह नए प्रत्याशी घोषित करने पर विचार कर रही है. ऐसे में सवाल उठ रहा है कि पीलीभीत लोकसभा सीट से सांसद वरुण गांधी पर पार्टी क्या फैसला लेगी.

UP Lok Sabha Election 2024, Lok Sabha Election

BJP सांसद वरुण गांधी

UP Lok Sabha Election 2024: निर्वाचन आयोग ने 18वीं लोकसभा के लिए शंखनाद कर दिया है. देश में चुनावी हलचल तेज हो गई है. वहीं केंद्र की सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने चुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले दो लिस्ट जारी की है. पार्टी ने पहली लिस्ट में 95 और दूसरी में 72 प्रत्याशी घोषित कर दिए हैं. पहली लिस्ट में पार्टी ने यूपी के 51 प्रत्याशियों के नाम शामिल थे, जिसमें सभी मौजूदा सांसदों के नाम थे. इसके बाद जारी दूसरी लिस्ट में पार्टी ने यूपी के एक भी प्रत्याशी का नाम घोषित नहीं किया. माना जा रहा है कि पार्टी बची हुई सीटों पर मौजूदा सांसदों की जगह नए प्रत्याशी घोषित करने पर विचार कर रही है. ऐसे में सवाल उठ रहा है कि पीलीभीत लोकसभा सीट से सांसद वरुण गांधी पर पार्टी क्या फैसला लेगी.

कल से नामांकन की प्रक्रिया होगी शुरू

बता दें कि पीलीभीत लोकसभा सीट के लिए मतदान पहले चरण में होना है. वहीं कल से यानी 20 मार्च से इस सीट पर नामांकन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. इसके बाद 20 अप्रैल को पीलीभीत में वोटिंग होगी, लेकिन पार्टी ने अभी तक प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है. ऐसे में शंका यह है कि वरुण गांधी को आगामी लोकसभा चुनाव में नहीं मिल सकता है. सूत्रों के मुसाबिक उनके पिछले कुछ वर्षों में पार्टी लाइन से हटकर बयान देने के कारण पार्टी उनका टिकट काट सकती है.

जितिन प्रसाद के नाम की चर्चा

वहीं सूत्रों का कहना है कि पार्टी उनकी जगह कांग्रेस से ही आए राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले जितिन प्रसाद को पीलीभीत से अपना लोकसभा प्रत्याशी बना सकती है. वर्तमान में जितिन प्रसाद यूपी के योगी सरकार में मंत्री पद पर हैं. वरुण गांधी की तरह जितिन प्रसाद को भी युवा चेहरे तौर पर देखा जाता है. इसके अलावा सूत्रों का यह भी कहना है कि इस सीट पर संजय गंगवार का नाम भी सामने लाया जा सकता है.

यह भी पढ़ें: Lok Sabha Election 2024: चुनावी महासमर में इन दिग्गजों पर दांव न लगा क्या कांग्रेस ने कर दी बड़ी चूक?

राज्य-केंद्र सरकार पर किए हमले

बताते चलें कि वरुण गांधी ने कई बार राज्य की योगी और केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ कई बार बयान दे चुके हैं. वहीं BJP ऐसे नेताओं से दूरी बना लेती है जो कि पार्टी की छवि को नुकसान पहुंचा सकते हैं. इससे पहले मध्य प्रदेश के भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के साथ भी बीजेपी ने ऐसा ही किया है.

अटकलों के बीच तेवर में दिखी नरमी

टिकट कटने की अटकलों के बीच वरुण गांधी के रुख में कुछ नरमी देखी गई थी. बीते कुछ वक्त में वह ज्यादा सक्रिय हो गए और पीएम मोदी की तारीफ करने से लेकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘X’ पर उनके पोस्ट को भी रीपोस्ट और कोट करते नजर आए. वहीं उन्होंने फेसबुक पर एक पोस्ट में यह भी लिखा था, ‘सत्य को बेशक थोड़ा इंतजार करना पड़े, मगर अंततः जीत सत्य की ही होगी.’ ऐसे में अब यह देखना दिलचस्प होगा कि उन्हें बीजेपी टिकट देती है या नहीं.

ज़रूर पढ़ें