Lok Sabha Election 2024: कांग्रेस नेता रोहन गुप्ता ने पार्टी से दिया इस्तीफा, पहले लौटाया था लोकसभा चुनाव का टिकट

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव में उम्मीदवारी वापस लेने के बाद रोहन गुप्ता ने अब कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे को भेजी चिट्ठी में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं.

Lok Sabha Election 2024

कांग्रेस नेता रोहन गुप्ता ने पार्टी से दिया इस्तीफा

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव में उम्मीदवारी वापस लेने के बाद रोहन गुप्ता ने अब कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे को भेजी चिट्ठी में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं. रोहन गुप्ता ने कहा, ”मैं तत्काल प्रभाव से कांग्रेस पार्टी के सभी पदों और प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देता हूं.

रोहन गुप्ता ने अपने आगे लिखा कि मुझे यह बताते हुए दुख हो रहा है कि पिछले दो वर्षों से पार्टी के संचार विभाग से जुड़े एक वरिष्ठ नेता द्वारा लगातार अपमान और चरित्र हनन किया जा रहा है. अब व्यक्तिगत संकट के समय में मुझे यह निर्णय लेने के लिए मजबूर होना पड़ा.” रोहन गुप्ता ने दावा किया कि इसकी जानकारी पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं को है. रोहन गुप्ता कांग्रेस के तेजतर्रार प्रवक्ता के तौर पर जाने जाते थे.

ये भी पढ़ें- Lok Sabha Election: बसपा ने लोकसभा चुनाव के लिए पहली लिस्ट की जारी, बस्तर और जांजगीर-चांपा से इन्हें दिया टिकट

“पिता ने 40 वर्षों के राजनीति के बारे में बताया” 

पूर्व कांग्रेस प्रवक्ता ने आगे लिखा कि व्यक्तिगत संकट के बीच, मैंने पिछले तीन दिन अपने पिता के साथ बिताए. इस दौरान वह गंभीर स्वास्थ्य स्थितियों से जूझ रहे थे. हालांकि इस दौरान मुझे वास्तव में उनको समझने में मदद मिली. मेरे पिता ने पिछले 40 वर्षों में विश्वासघात और तोड़फोड़ की घटनाओं के बारे में बताया. उन्होंने ये भी बताया कि कैसे नेता अपने बुरे कामों के बावजूद बच निकले. उन घटनाओं के घाव अभी भी ठीक नहीं हुए हैं जिन्हें मैं उनके आंसुओं में देख सकता था.

“मेरे पिता नहीं चाहते हैं कि मैं भी वहीं कीमत चुकाऊं”

रोहन गुप्ता ने आगे लिखा की मेरे पिता नहीं चाहते कि मैं भी उतनी ही कीमत चुकाऊं, क्योंकि पिछले दो वर्षों में मैं जिस मानसिक आघात से गुजरा हूं, उसे पूरे परिवार ने देखा है, जो संचार विभाग से जुड़े वरिष्ठ नेता के कारण हुआ था. मेरे पिता मेरे साथ वही सब घटित होने की कल्पना कर सकते थे जो मैं नहीं कर सकता था. उन्होंने इसे सहन किया और अंततः अपना स्वास्थ्य खराब कर लिया और बायपास सर्जरी करा ली, जो वह कभी नहीं चाहते थे कि मैं ऐसा करूं.

ज़रूर पढ़ें