Maharashtra: ‘उद्धव गुट मनमाने तरीके से उतार रहा है उम्मीदवार’, कांग्रेस नेतृत्व से संजय निरुपम ने की ये मांग

Lok Sabha Election 2024: देशभर में होने जा रहे लोकसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक पार्टियां सक्रिय हो गई हैं. चुनावी माहौल को देखते हुए नेताओं ने भी कमर कस ली है. इस बीच कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने शिवसेना यूबीटी को लेकर एक बड़ा बयान दिया है.

Lok Sabha Election 2024

महाराष्ट्र में विपक्षी गठबंधन में नहीं बन रही बात

Lok Sabha Election 2024: देशभर में होने जा रहे लोकसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक पार्टियां सक्रिय हो गई हैं. चुनावी माहौल को देखते हुए नेताओं ने भी कमर कस ली है. इस बीच कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने शिवसेना यूबीटी को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. इस दौरान उन्होंने कहा कि शिवसेना (यूबीटी) ने मनमाने तरीके से मुंबई की 6 लोकसभा सीटों में से 4 पर उम्मीदवारों की घोषणा की है. मेरे पास इनपुट है कि वे 5वीं सीट पर यानी की उत्तर मंबई सीट पर भी उम्मीदवार के नाम की घोषणा करने वाली है.

कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने कहा कि इससे कांग्रेस कैडर परेशान है. मुंबई कांग्रेस नेतृत्व के अलावा पार्टी के कार्यकर्ता और मतदाता भी इससे परेशान होंगे. उन्होंने आगे कहा कि मैं अपने शीर्ष नेतृत्व से मांग करना चाहूंगा कि उन्हें इसके खिलाफ रुख अपनाना चाहिए यह फैसला शिव सेना का है. संजय निरुपम ने आगे कहा कि उत्तर पश्चिम मुंबई जहां मैं मजबूत उम्मीदवारी पेश कर रहा था, उस सीट पर भी शिव सेना ने अपने उम्मीदवार को खड़ा किया है.

ये भी पढ़ें- Lok Sabha Election 2024: बिहार में सीट बंटवारे पर क्या हुई बात? तेजस्वी यादव बोले- ‘हमारे गठबंधन में सबको…’

“शिवसेना ने खिचड़ी चोर को टिकट दिया है”

संजय निरुपम ने आरोप लगाया कि शिवसेना उत्तर पश्चिम मुंबई सीट से जिसको टिकट दिया है उसने कोविड खिचड़ी घोटाले में ठेकेदार से रिश्वत ली थी. ईडी इसकी जांच कर रही है. उन्होंने आगे कहा कि शिवसेना जानबूझकर ऐसे खिचड़ी चोर को चुनावी मैदान में उतार रही है.  इससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को ठेस पहुंची है. मैं भी परेशान हूं. मुझे दुख है कि हमारे वार्ताकारों ने कांग्रेस पार्टी का पक्ष मजबूती से नहीं रखा.

कांग्रेस नेतृत्व को स्टैंड लेना चाहिए

संजय निरुपम ने आगे ये भी कहा कि शिवसेना (यूबीटी) ने कांग्रेस को दबाने का प्रयास किया है. यह प्रयास मुंबई में कांग्रेस को खत्म करने की साजिश का एक हिस्सा है. कांग्रेस नेतृत्व को स्टैंड लेना होगा. बस दो ही विकल्प हैं- पहला, गठबंधन तोड़ दें. दूसरा, दोस्ताना लड़ाई करें. कांग्रेस को उन सीटों पर उम्मीदवार खड़े करने चाहिए जिन पर हमारे बीच विवाद है और समाधान नहीं निकल पाया है.”

ज़रूर पढ़ें