Lok Sabha Election: सरगुजा लोकसभा से शशि सिंह को टिकट मिलने का कांग्रेसी ही कर रहे विरोध, इस्तीफा देने की दे रहे चेतावनी

Lok Sabha Election: सूरजपुर में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की लिस्ट में शामिल नरेश राजवाड़े ने शशि सिंह को लोकसभा टिकट मिलने पर कहा कि निश्चित रूप से कार्यकर्ता हतोत्साहित हैं, क्योंकि शशि सिंह और उनके परिवार ने 2008 से हर चुनाव में कांग्रेस के खिलाफ काम किया है.

Chhattisgarh News

कांग्रेस कार्यकर्ता

Lok Sabha Election: छत्तीसगढ़ के सरगुजा लोकसभा सीट के लिए कांग्रेस ने लंबे इंतजार के बाद प्रत्याशी की घोषणा कर दी है. पूर्व मंत्री स्व. तुलेश्वर सिंह की बेटी शशि सिंह को सरगुजा लोकसभा सीट के लिए कांग्रेस ने अधिकृत प्रत्याशी घोषित किया है, लेकिन शशि सिंह का नाम लोकसभा प्रत्याशी के रूप मे आने के बाद उनके गृह जिले के कांग्रेस पदाधिकारी ही उनका विरोध कर रहे है. आलम यह है कि नाराज पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं में बैठकों का दौर चल रहा है, और सामूहिक इस्तीफे की तैयारी की खबर है. सूरजपुर जिले के प्रेमनगर विधानसभा सीट से पूर्व कांग्रेस प्रत्याशी व वर्तमान जिला पंचायत उपाध्यक्ष नरेश राजवाड़े ने अपने समर्थकों, कार्यकर्ताओं की मौजूदगी में लोकसभा प्रत्याशी शशि सिंह और उनके परिवार को लेकर मीडिया में जो बयान दिया उससे यह साफ हो गया कि सूरजपुर जिले में कांग्रेस के अंदरखाने में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. वहीं अब छत्तीसगढ़ सरकार में मंत्री लक्ष्मी राजवाड़े ने भी कांग्रेस प्रत्याशी शशि सिंह के उनके ही पार्टी के लोगों द्वारा विरोध किए जाने को लेकर प्रतिक्रिया दी है.

ये उनका मामला है क्या करेंगे, क्या नहीं – मंत्री लक्ष्मी राजवाड़े

मंत्री लक्ष्मी राजवाड़े ने कहा कि कांग्रेस ने प्रत्याशी घोषित कर दिया है. ये उनका मामला है क्या करेंगे क्या नहीं? लेकिन भारतीय जनता पार्टी में जितने कार्यकर्ता है, सब जमीनी स्तर पर काम कर रहे है, और अच्छा रिजल्ट मिलने वाला है. अभी भारतीय जनता पार्टी की विचारधारा से प्रभावित होकर कांग्रेस के पदाधिकारी भारतीय जनता पार्टी में सम्मिलित हो रहे है। संगठन तय करेगी किसको लेना है किसको नहीं?

शशि सिंह और उनके परिवार ने हर चुनाव में कांग्रेस के खिलाफ काम किया

सूरजपुर में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की लिस्ट में शामिल नरेश राजवाड़े ने शशि सिंह को लोकसभा टिकट मिलने पर कहा कि निश्चित रूप से कार्यकर्ता हतोत्साहित हैं, क्योंकि शशि सिंह और उनके परिवार ने 2008 से हर चुनाव में कांग्रेस के खिलाफ काम किया है. इनके पिता जब थे, 2008 में जब मै खुद चुनाव लड़ रहा था, तो मुझे हराने में उनका पूरा श्रेय था. 2013 में जब खेलसाय सिंह चुनाव लडे तो उनके खिलाफ साइकिल छाप में चुनाव लड़े. विधानसभा के बाद लोकसभा में भी उन्होंने कांग्रेस के खिलाफ काम किया. इस बार भी जब विधानसभा का चुनाव हुआ, कांग्रेस के द्वारा खेलसाय को अधिकृत प्रत्याशी बनाया गया. तो शशि सिंह, जो राष्ट्रीय सचिव होते हुए भी कांग्रेस की खिलाफत किए थे. तो उनको टिकट देने से कांग्रेस के खिलाफ काम करने वालों के लिए पुरस्कार देने जैसा बात है.जो भी कांग्रेस के निष्ठावान कार्यकर्ता है वो हतोत्साहित है. उनके मन में थोड़ा गुस्सा, रोष है. अब कांग्रेस कार्यकर्ता किसी भी तरह से काम करने के लिए वो अनिच्छा दिखा रहे है.

ये भी पढ़ें – राज्य में आदर्श आचार संहिता प्रभावी होने के बाद से निगरानी दलों ने जब्त किए 25 करोड़ की नकदी और वस्तुएं

हजारों लोग रिजाइन करेंगे, विचार कर रहे – नरेश राजवाड़े

नरेश राजवाड़े ने आगे कहा कि आने वाले समय मे बड़ा कदम होगा, कुछ न कुछ तो होगा. पूरे विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस कार्यकर्ताओं का नेटवर्क है, एक फौज है. अगर इस्तीफा की बात आएगी, हालांकि अब तक ऐसा कोई निर्णय नहीं हुआ है, लेकिन अगर इस्तीफे की बात आएगी तो हजारों की संख्या में हम कांग्रेस के कार्यकर्ता रिजाइन करेंगे, लेकिन अभी उसपर विचार कर रहे है. हम टीएस बाबा के साथ जुड़े हुए हैं, उनके अधीनस्थ काम करते है। हम सबने भी अपनी भावना महाराजा साहब को बताई थी, लेकिन ऊपर वालों ने कुछ निर्णय लिए है, जो हमारी समझ से परे है. हम नीचे जमीन स्तर के कार्यकर्ता है. टीएस बाबा (टीएस सिंहदेव) की कोई खिलाफत की बात नहीं है. शशि सिंह और उनका परिवार दूसरे को टिकट मिलता है, तो हमेशा खिलाफत करते है. जमीन स्तर के कार्यकर्ता हतोत्साहित है कि कांग्रेस के खिलाफ काम करने वालों को सजा मिलने के बजाए पुरस्कार मिल रहा है.

अपने बीच की बात है, मना लेंगे – भगवती राजवाड़े

इधर सरगुजा लोकसभा प्रत्याशी शशि सिंह के विरोध को लेकर सूरजपुर जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष भगवती राजवाड़े का कहना है कि, अपने ही लोग प्रत्याशी को लेकर विरोध कर रहे हैं. इसकी जानकारी सोशल मीडिया के माध्यम से मिली है। कोई लिखित बात मुझ तक नहीं पहुंची है। कुछ नाराजगी है, हम लोग मना लेंगे, अपने बीच की बात है.

ज़रूर पढ़ें