BSP सुप्रीमो मायावती ने Mukhtar Ansari की मौत पर उठाए सवाल, बोलीं- उच्च स्तरीय जांच जरूरी है

Mukhtar Ansari Death: उत्तर प्रदेश के बांदा जेल में बंद माफिया डॉन मुख्तार अंसारी की गुरुवार को हार्ट अटैक मौत हो गई. मुख्तार की मौत से जुड़ी खबर आने के बाद से ही विपक्षी नेताओं की प्रतिक्रिया सामने आने लगी.

Mukhtar Ansari Death

बसपा सुप्रीमो मायवाती और मुख्तार अंसारी

Mukhtar Ansari Death: उत्तर प्रदेश के बांदा जेल में बंद माफिया डॉन मुख्तार अंसारी की गुरुवार को हार्ट अटैक मौत हो गई. मुख्तार की मौत से जुड़ी खबर आने के बाद से ही विपक्षी नेताओं की प्रतिक्रिया सामने आने लगी. कई नेताओं ने मौत पर सवाल उठाते हुए जांच की मांग की है, तो वहीं कुछ नेता ये बात भी याद दिला रहे हैं कि मुख्तार अंसारी ने प्रशासन पर आरोप लगाया था और कहा था कि उसको ‘स्लो पॉइजन दिया गया है.

इस बीच बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा कि मुख्तार अंसारी की जेल में हुई मौत को लेकर उनके परिवार द्वारा जो लगातार आशंकायें व गंभीर आरोप लगाए गए हैं. उनकी उच्च-स्तरीय जांच जरूरी है, ताकि उनकी मौत के सही तथ्य सामने आ सकें. ऐसे में उनके परिवार का दुःखी होना स्वाभाविक है. कुदरत उन्हें इस दुःख को सहन करने की शक्ति दे.

ये भी पढ़ें- Mukhtar Ansari की मौत पर सपा ने दी श्रद्धांजलि, सोशल मीडिया पर यूजर्स ने घेरा

“ग़ाज़ीपुर की अवाम ने अपने चहीते बेटे और भाई को को खो दिया”

मुख्तार अंसारी की मौत पर एआईएमआईएम नेता और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर लिखा, ‘इन्ना लिल्लाही वा इन्ना इलैही रजियून. अल्लाह से दुआ है के वो मुख़्तार अंसारी को मग़फ़िरह अदा करें, उनके ख़ानदान और उनके चाहने वालों को सब्र्-ए-जमील अदा करें. ग़ाज़ीपुर की अवाम ने अपने चहीते बेटे और भाई को को खो दिया. मुख़्तार साहब ने प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाया था के उन्हें ज़हर दिया गया था.’

 तेजस्वी यादव ने दुख जताया

बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भी अंसारी के निधन पर दुख जताते हुए एक्स पर कहा, ”यूपी से पूर्व विधायक श्री मुख्तार अंसारी के इंतकाल का दुःखद समाचार मिला. परवरदिगार से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति तथा शोकाकुल परिजनों को दुःख सहने की शक्ति प्रदान करें.”

पूर्व डिप्टी सीएम ने कहा कि कुछ दिन पूर्व उन्होंने शिकायत की थी कि उन्हें जेल में जहर दिया गया है फिर भी गंभीरता से नहीं लिया गया. उन्होंने लिखा, “प्रथम दृष्टया ये न्यायोचित और मानवीय नहीं लगता. संवैधानिक संस्थाओं को ऐसे विचित्र मामलों व घटनाओं पर स्वत: संज्ञान लेना चाहिए.”

ज़रूर पढ़ें