Irfan Solanki: ‘जानवर-जानवर…’, कोर्ट में चिल्लाने लगे सपा विधायक इरफान सोलंकी, पुलिस पर लगाया एनकाउंटर की साजिश का आरोप

Irfan Solanki Viral Video: कोर्ट परिसर में इरफान सोलंकी अचानक से जानवर-जानवर चिल्लाते हुए खुद तो खुद को जानवर बताया और इसके बाद हंसे और आगे चले गए.

Irfan Solanki, VIDEO

कोर्ट में चिल्लाने लगे सपा विधायक इरफान सोलंकी

Irfan Solanki Viral Video: समाजवादी पार्टी के विधायक इरफान सोलंकी अजीबोगरीब हरकत करते वीडियो सामने आया है. दरअसल, गुरुवार को सपा विधायक को आगजनी के एक मामले में MP-MLA सेशन कोर्ट में पेश किया गया. तभी कोर्ट परिसर में इरफान सोलंकी अचानक से जानवर-जानवर चिल्लाते हुए खुद तो खुद को जानवर बताया और इसके बाद हंसे और आगे चले गए. कोर्ट में पेशी के दौरान उन्होंने पुलिस पर गंभीर आरोप भी लगाए. इस घटना वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है.

सोलंकी ने पुलिस पर लगाए आरोप

दरअसल, इरफान सोलंकी(Irfan Solanki) को जब पुलिस ले जा रही थी, तब वहां मौजूद मीडियाकर्मियों ने उनसे बात करने की कोशिश की. मीडियाकर्मियों ने सवाल पर इरफान जोर-जोर से ‘जानवर-जानवर’ चिल्लाने लगे. इरफान को ऐसे चिल्लाता देख कोर्ट रूम में मौजूद सभी लोग हैरान हो गए. इस दौरान जब उनसे पूछा गया तो कि वह ऐसा क्यों कर रहे हैं, तो उन्होंने कहा कि आप लोग यही सवाल पुलिस कमिश्नर से पूछिए कि, वह मुझे जज के सामने पेश करने के बजाय पुलिस लाइन क्यों ले गए, मेरा एनकाउंटर करना है क्या. इरफान ने यह भी आरोप लगाया कि कहीं मुझे अटैक तो नहीं पड़ रहा था. मुझे वहां ले जाने की क्या वजह थी. मुझे 2 घंटे तक पुलिस लाइन में क्यों रखा गया, साथ ही कहा कि हो सकता है कि मेरी भी खबर आए कि विधायक को अटैक पड़ गया.

यह भी पढ़ें: UP News: सपा विधायक इरफान सोलंकी के आवास पर ED की छापेमारी, भाई से भी हो रही पूछताछ

8 नवंबर 2022 दर्ज हुआ था केस

बता दें कि सपा विधायक इरफान सोलंकी पिछले कुछ समय से महाराजगंज जेल में बंद हैं. नजीर फातिमा नाम की महिला ने डिफेंस कॉलोनी, जाजमऊ थाने में सपा विधायक इरफान सोलंकी और उनके भाई रिजवान सोलंकी के खिलाफ 8 नवंबर 2022 को एक रिपोर्ट दर्ज कराई थी. उन्होंने आगजनी को शिकायत दर्ज कराई थी. इसी केस में उन्हें कानपुर की MP-MLA कोर्ट में पेशी के लिए लाया गया था. इस मामले में आज फैसला आने की उम्मीद जताई जा रही थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. मामले में अगली सुनावाई 6 अप्रैल को होगी.

ज़रूर पढ़ें