UP News: पश्चिमी यूपी में ‘जयचंद’ से ‘जयंत’ तक पहुंची BJP के दो दिग्गजों की लड़ाई, संजीव बालियान-संगीत सोम के जुबानी जंग में RLD की भी एंट्री

UP News: संजीव बालियान और संगीत सोम के बीच यह लड़ाई जयचंद तक पहुंच गई है. हाल में संजीव बालियान ने संगीत सोम को जयचंद बता दिया.
UP News, anjeev Balyan and Sangeet Som

संजीव बालियान-संगीत सोम के जुबानी जंग

UP News: उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की ओर से कम सीटें जीतने के बाद से अंदरूनी कलह अब खुलकर सामने आ रही है. संजीव बालियान और संगीत सोम के बीच यह लड़ाई जयचंद तक पहुंच गई है. हाल में संजीव बालियान ने संगीत सोम को जयचंद बता दिया. अब संगीत सोम ने पलटवार करते हुए NDA के सहयोगी और राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख जयंत चौधरी को भी निशाने पर ले लिया है. बता दें कि संजीव बालियान ने मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट पर हार का ठीकरा संगीत सोम पर फोड़ा था.

संजीव बालियान-संगीत सोम के बीच जुबानी जंग तेज

संजीव बालियान ने सोमवार को पत्रकारों ने जब उनसे संगीत सोम से विवाद को लेकर सवाल किया तो उन्होंने कहा कि मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट पर चुनाव हराने में जयचंदों का भी हाथ . इशारों में उन्होंने कहा कि इन लोगों ने समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी को चुनाव लड़ाया, पार्टी इन लोगों पर कार्रवाई करे. बता दें कि मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट पर संजीव बालियान BJP के टिकट पर फिर से चुनावी मैदान में थे. चुनाव में उनको हार का सामना करना पड़ा. इसी पर संजीव बालियान और संगीत सोम के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है. संगीत सोम ने पलटवार करते हुए कई बड़े आरोप लगाए हैं.

यह भी पढ़ें: UP Politics: उत्तर प्रदेश के 9 विधायक देंगे अपने पद से इस्तीफा, जानें किन-किन सीटों पर होंगे उपचुनाव

‘कोई सामने से आएगा तो हाथ मिलाना अपना धर्म है’

मंगलवार को मेरठ में कैंट स्थित आवास पर संगीत सोम ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि उन्होंने कहा कि सरधना में लोकसभा का चुनाव लगभग बराबरी पर था. संजीव बालियान अपने घर में क्यों हारे, इसकी जांच होनी चाहिए. चरथावल और बुढ़ाना दोनों विधानसभा क्षेत्रों में BJP की हार हुई है. उन्होंने आगे कहा कि पार्टी को इस बात की भी जांच करानी चाहिए कि 2022 में सरधना में BJP क्यों हारी. सपा से हाथ मिलाने और संजीव बालियान के जयचंद और विभीषण जैसे बयान पर उन्होंने कहा कि यह उनका संस्कार नहीं है और कहा कि वह BJP के समर्पित कार्यकर्ता हैं. कोई सामने से आएगा तो हाथ मिलाना अपना धर्म है. उन्होंने आगे कहा कि RLD के आने से के BJP को कोई फायदा नहीं हुआ. जीती हुई सीट भी पार्टी हार गई. वहीं RJD दो सीटों पर जीत गई. उन्होंने आगे कहा कि मुजफ्फरनगर विधानसभा विपरीत परिस्थितियों में जीतते रहे हैं और मात्र 800 से जीते. खतौली 30 से 40 हजार से जीतते हैं ,करीब 2000 से जीते और बुढ़ाना और चरथावल में हार गए.

ज़रूर पढ़ें