Chhattisgarh News: बस्तर सीट पर फंसा कांग्रेस का पेंच, टिकट की सरगर्मियों के बीच कवासी लखमा ने दीपक बैज से की मुलाकात

Chhattisgarh News: लोकसभा सीट में 2019 में कांग्रेस को जीत मिली थी. मोदी लहर के बाद भी दीपक बैज इस सीट से चुनाव जीतने में सफल रहे है. माना जा रहा था कि इस सीट पर कांग्रेस फिर से दीपक बैज उम्मीदवार हो सकते हैं, लेकिन सीनियर नेता कवासी लखमा की एंट्री के कारण सीट होल्ड हो गई.

Chhattisgarh News

कोंटा विधायक कवासी लखम और पीसीसी चीफ दीपक बैज

Chhattisgarh News: लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया गया है. वहीं बस्तर में पहले चरण में लोकसभा चुनाव होना है. इसके लिए आज से नामांकन दाखिल किया जा रहा है. इस बार बीजेपी ने धर्मातंरण के खिलाफ लड़ने वाले महेश कश्यप को बस्तर लोकसभा सीट से चुनावी मैदान में उतारा है. तो वहीं कांग्रेस इस सीट पर अपने प्रत्याशी का नाम तय नहीं कर पायी है.

दीपक बैज और कवासी लखमा के बीच फंसी बस्तर सीट

बस्तर लोकसभा सीट में 2019 में कांग्रेस को जीत मिली थी. मोदी लहर के बाद भी दीपक बैज इस सीट से चुनाव जीतने में सफल रहे है. माना जा रहा था कि इस सीट पर कांग्रेस फिर से दीपक बैज उम्मीदवार हो सकते हैं, लेकिन सीनियर नेता कवासी लखमा की एंट्री के कारण सीट होल्ड हो गई. कवासी लखमा अपने बेटे के लिए टिकट की दावेदारी कर रहे हैं, वही दूसरी तरफ शीर्ष नेतृत्व के कई नेता कवासी लखमा के नाम पर विचार कर रही है. लेकिन अब इन चर्चाओं के बीच दीपक बैज ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट X में एक पोस्ट शेयर किया है.

ये भी पढ़ें – राजनांदगांव सीट पर भूपेश बघेल और संतोष पांडे के बीच कड़ा मुकाबला, जानिए कैसा है इस सीट का समीकरण

दीपक बैज ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट X पर शेयर किया पोस्ट

तमाम चर्चाओं के बीच दीपक बैज ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट X में पोस्ट शेयर किया और लिखा – आज छत्तीसगढ़ शासन के पूर्व कैबिनेट मंत्री और कोंटा विधायक वरिष्ठ आदिवासी नेता श्री कवासी लखमा से शिष्टाचार भेंट-मुलाकात हुई. इस दौरान आगामी लोकसभा चुनाव की रणनीतियों पर चर्चा की. इस बार हम सब और अधिक मजबूती से कांग्रेस पार्टी कि विचार धारा और न्याय की गारंटी को जन-जन तक पहुँचाने में अवश्य सफल होंगे.

किसके नाम पर बनी सहमति?
ऐसा कहा जा रहा है कि बस्तर लोकसभा सीट पर कांग्रेस ने दीपक बैज के नाम पर सहमति बना ली है. दीपक बैज मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष भी हैं और इसके साथ-साथ 2019 में उन्होंने विपरीत परिस्थियों में चुनाव जीता था जिस कारण से उनकी दावेदारी तय मानी जा रही है. यही कारण है कि दीपक बैज लगातार अपने संसदीय सीट का दौरा कर रहे हैं. वहीं, कवासी लखमा भी उन नेताओं में हैं जो कोंटा लगातार लोकसभा सीट से चुनाव जीत रहे हैं. दोनों नेताओं की छवि मजबूत जनाधार वाले नेता की है.

ज़रूर पढ़ें