Lok Sabha Election: राजनादगांव सीट पर भूपेश बघेल और संतोष पांडे के बीच कड़ा मुकाबला, जानिए कैसा है इस सीट का समीकरण

Chhattisgarh News: राजनादगांव लोकसभा में पिछड़ा वर्ग और आदिवासी समुदाय के ज्यादा मतदाता है, राजनांदगांव लोकसभा की खासियत यह भी है कि राजनांदगांव लोकसभा में सबसे ज्यादा महिला मतदाताओं की संख्या है.

Chhattisgarh News

पूर्व सीएम भूपेश बघेल और सांसद संतोष पांडेय

Lok Sabha Election: राजनादगांव लोकसभा हमेशा से ही छत्तीसगढ़ सहित देश का सबसे हॉट सीट माना जाता है. राजनांदगांव लोकसभा में आठ विधानसभा क्षेत्र आते हैं, जिसमे वर्तमान में कांग्रेस के पांच और भाजपा के तीन विधायक शामिल है. राजनादगांव लोकसभा से वर्तमान सांसद संतोष पांडे पर भाजपा ने भरोसा जताया है. वहीं राजनांदगांव से पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को कांग्रेस ने अपना प्रत्याशी बनाया है, दोनों ही प्रत्याशी अपने चुनाव प्रचार में जहां व्यस्त है. वहीं जिले की जनता क्या चाहती है ये कह पाना अभी मुश्किल लग रहा है.

दोनों प्रत्याशी अपनी जीत को लेकर आश्वस्त

राजनांदगांव लोकसभा सीट से जहां पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपनी जीत को लेकर आश्वस्त है, तो वहीं भाजपा के वर्तमान सांसद और लोकसभा प्रत्याशी संतोष पांडेय भी मोदी की गारंटी के साथ आगे बढ़ रहे हैं. राजनंदगांव लोकसभा चूंकि 15 साल मुख्यमंत्री रहे डॉक्टर रमन सिंह का विधानसभा क्षेत्र और गृह जिला है. इस लिहाज से देखा जाए तो भाजपा पूरे जोड़-तोड़ से संतोष पांडे को जीताने में लगी है.

ये भी पढ़ें – कांग्रेस की खुद अपनी कोई गारंटी नहीं रही, वो जनता को गारंटी दे रही है- बीजेपी ने कांग्रेस पर कसा तंज

राजनांदगांव लोकसभा सीट का जातिगत समीकरण

संतोष पांडेय सामान्य वर्ग से आते हैं, जिनकी संख्या लगभग 23% है. राजनादगांव लोकसभा में पिछड़ा वर्ग और आदिवासी समुदाय के ज्यादा मतदाता है, राजनांदगांव लोकसभा की खासियत यह भी है कि राजनांदगांव लोकसभा में सबसे ज्यादा महिला मतदाताओं की संख्या है. भाजपा के चुनाव प्रचार में राजनांदगांव लोकसभा में कई दिग्गजों के आने की भी संभावना है. देश के गृहमंत्री, प्रधानमंत्री और कई प्रदेश के मुख्यमंत्री के आने की संभावना जताई जा रही है.

वहीं कांग्रेस से खुद स्टार प्रचारक के रूप में भूपेश बघेल लगातार पसीना बहा रहे है. राजनांदगांव लोकसभा में दोनों ही पार्टियां अपनी-अपनी जीत को लेकर आश्वस्त है. लेकिन आने वाला समय ही बताएगा किसका पलड़ा भारी रहेगा.

ज़रूर पढ़ें