Chhattisgarh News: रेप पीड़िता से मिले स्वास्थ्य मंत्री श्याम बिहारी जायसवाल, मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना से कराया इलाज

Chhattisgarh News: स्वास्थ्य मंत्री जायसवाल ने मामले की जानकारी होते ही त्वरित कार्यवाही करते हुए मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना के माध्यम से 2 किस्त में लगभग 22 लाख रू. राशि उपचार के लिए स्वीकृत कराई.

Chhattisgarh News

पीड़िता से मिलते स्वास्थ्य मंत्री श्याम बिहारी जायसवाल

Chhattisgarh News: स्वास्थ्य मंत्री श्यामबिहारी जायसवाल की संवेदनशील पहल के चलते एक 19 वर्षीय युवती की जान बच गई, मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना के माध्यम से 22 लाख रू. राशि स्वीकृत कराई जा चुकी है.  इस पीड़िता को देखने स्वास्थ्य मंत्री खुद पचपेढ़ी नाका चौक स्थित निजी अस्पताल पहुंचे और पीड़िता का हाल जाना.

क्या है पूरा मामला

20 अक्टूबर 2023 को गनपतपुर के ठिहाईपारा जंगल में एक दिल दहला देने वाली घटना हुई थी. युवती के प्रेमी ने ही उसके साथ धोखा किया और जंगल बुलाकर युवती के साथ बलात्कार किया. इस दौरान हुई झुमा-झटकी में युवती 11 हजार वोल्ट के करंट के तार की चपेट में आ गई और गंभीर रूप से झुलस गई. उसे इसी हालत में छोड़कर   दोनों आरोपी युवक फरार हो गए. कुछ समय बाद जंगल में कुछ लोगों ने युवती को अचेत अवस्था में देखा और घटना की सूचना पुलिस को दी, साथ ही युवती को बैकुंठपुर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. इस बीच पुलिस ने बलात्कार का मामला दर्ज कर आरोपी निलेश कुमार (कथित प्रेमी) और उसके साथी बेचन साय यादव को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.

बता दें कि गंभीर हालत में जिला अस्पताल बैकुंठपुर में भर्ती बलात्कार पीड़िता युवती के परिजनों ने खुद उसकी छुट्टी कराई और घर ले गए. घर में उसकी सही देखभाल न हो पाने के कारण वह सेप्टीसिमिया जैसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हो गयी. युवती की हालत दिन ब दिन बिगड़ती चली गई.

ये भी पढ़ें – बीजापुर से केवल 7 KM दूर गांव में सुविधाओं की कमी, एंबुलेंस जाने का रास्ता तक नहीं

आई.ओ.सी.एल. के एक अधिकारी ने की मदद

बता दें कि गंभीर हालत में घर में पड़ी युवती को उपचार के लिये रायपुर के किसी अच्छे अस्पताल में पहुंचाने के लिये आई.ओ.सी.एल. के एक स्थानीय अधिकारी ने पहल की. स्थानीय जिला प्रशासन की सक्रियता के बाद गंभीर हालत में युवती को रायपुर लाया गया. इस दौरान युवती ऑक्सीजन पर थी और उसका हीमोग्लोबिन 2 ग्राम पहुंच चुका था, उसके पूरे शरीर में संक्रमण फैल चुका था. उसके बचने की आस समाप्त हो गई थी. 22 फरवरी 2024 को कई घंटों के अथक प्रयासों के बाद भी युवती किसी भी शासकीय अस्पताल में भर्ती नहीं हो पाई. इसके बाद उसकी गंभीर हालत को देखते हुये पचपेढ़ी नाका के आगे एक निजी बर्न युनिट में भर्ती करा दिया गया.

स्वास्थ्य मंत्री ने शासकीय योजना से पूरे उपचार की पहल की

स्वास्थ्य मंत्री जायसवाल ने मामले की जानकारी होते ही त्वरित कार्यवाही करते हुए मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना के माध्यम से 2 किस्त में लगभग 22 लाख रू. राशि उपचार के लिए स्वीकृत कराई. फिर स्वास्थ्य मंत्री अचानक अस्पताल पहुंचे. उन्होंने युवती के परिजन से मुलाकात कर हाल चाल पूछा. साथ ही बलात्कार पीड़िता युवती से मिलने आईसीयू तक गए. वहां उन्होंने युवती से बातचीत कर उसे ढ़ांढस बंधाया. साथ ही उसके जल्द स्वस्थ होने की कामना की.

बता दें कि पीड़िता युवती की हालत में बहुत सुधार आ चुका है, उसका हिमोग्लोबिन 10 ग्राम हो गया है और वह अब बातचीत भी करने लगी है. निजी अस्पताल के डाॅक्टर के अनुसार अभी युवती को लगभग एक माह और भर्ती रहना पड़ेगा. इस दौरान उसके कुछ और ऑपरेशन होंगे.

ज़रूर पढ़ें