Delhi Liquor Scam: ED के 9 समन के खिलाफ दिल्ली HC पहुंचे अरविंद केजरीवाल, जांच एजेंसी के सामने अब तक नहीं हुए हैं पेश

Delhi Liquor Scam: बता दें कि ED ने सीएम Arvind Kejriwal को नौवां समन जारी करते हुए गुरुवार यानी 21 मार्च को पूछताछ के लिए बुलाया था.

Delhi Liquor Scam, Arvind Kejriwal

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल

Delhi Liquor Scam: मंगलवार दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal) ने दिल्ली हाईकोर्ट का रूख किया है. उन्होंने कथित शराब घोटाला मामले में उन्हें जारी किए गए प्रवर्तन निदेशालय(ED) की ओर से सभी 9 समन को चुनौती दी है. दिल्ली HC की खंडपीठ आम आदमी पार्टी(AAP) संयोजक की याचिका पर बुधवार को सुनवाई करेगी. बता दें कि ED सीएम केजरीवाल को नौवां समन जारी करते हुए गुरुवार यानी 21 मार्च को पूछताछ के लिए बुलाया था.

कब-कब सीएम केजरीवाल को जारी हुए समन?

बता दें कि पिछले साल 2 नवंबर को ED ने सीएम केजरीवाल से पूछताछ के लिए पहला समन जारी किया था. इसके बाद 21 दिसंबर को दूसरा समन जारी किया. इसके बाद साल 3 जनवरी, 18 जनवरी, 2 फरवरी, 14 फरवरी और 22 फरवरी, 3 मार्च और 17 मार्च को समन जारी किया है. बता दें कि सीएम केजरीवाल किसी भी समन पर पेश नहीं हुए और केंद्र सरकार पर एजेंसी के गलत इस्तेमाल का आरोप लगाया. वहीं आम आदमी पार्टी का दावा है कि ED उन्हें गिरफ्तार करना चाहती है.

दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट से मिली थी जमानत

वहीं इससे पहले दिल्ली शराब नीति घोटाला मामले की जांच में शामिल होने के लिए भेजे गए समन के उल्लंघन पर ED ने भी कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. ED की ओर से उनके खिलाफ दो शिकायतें की दर्ज कराई गई थी. इसके बाद वह शनिवार को कोर्ट में पेश हुए. इससे पहले की सुनवाई में वह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पेश हुए थे. इस दौरान राउज एवेन्यू कोर्ट ने माना कि उनके खिलाफ जो भी केस हैं वह जमानती हैं और उन्हें 50 हजार रुपए के दो बॉन्ड्स पर जमानत दी.

यह भी पढ़ें: Delhi Liquor Scam: अरविंद केजरीवाल के खिलाफ फिर कोर्ट पहुंची ED, जानिए क्या है पूरा मामला जिसमें CM पर लटकी है गिरफ्तारी की तलवार

गोवा विधानसभा चुनाव में पैसे का किया इस्तेमाल

बताते चलें कि दिल्ली शराब नीति घोटाला मामले में ED की ओर से अब तक 6 चार्जशीट दाखिल किए जा चुके हैं. छठे आरोपपत्र में केंद्रीय एजेंसी ED ने ‘AAP’ राज्यसभा सांसद संजय सिंह और उनके सहयोगी सर्वेश मिश्रा को नामित किया था. एजेंसी ने आरोपपत्र में दावा था कि गोवा विधानसभा चुनाव में पार्टी ने इसी नीति के तहत उगाही किए गए 45 करोड़ रुपए का इस्तेमाल किया था.

ज़रूर पढ़ें