56 फीसदी मुस्लिम और 9 फीसदी ईसाई… जानें राहुल गांधी की वायनाड का सियासी समीकरण

केरल में लोकसभा की कुल 20 सीटें हैं जिनमें वायनाड भी एक सीट है. यह लोकसभा सीट केरल, तमिलनाडु और कर्नाटक तीनों प्रांतों को जोड़ने वाला इलाका है और तीनों ही प्रांत कांग्रेस के प्रभाव वाले क्षेत्र में आते हैं.

Rahul Gandhi

राहुल गांधी

Lok Sabha Election 2024: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को केरल के वायनाड से अपना लोकसभा नामांकन पत्र दाखिल किया. इस दौरान उनकी बहन प्रियंका गांधी भी उनके साथ मौजूद थीं. नामांकन दाखिल करने से पहले राहुल गांधी ने केरल के वायनाड में रोड शो किया. उनके रोड शो में जबरदस्त भीड़ उमड़ी थी. हालांकि, रोड शो के दौरान इंडी गठबंधन में कांग्रेस के सहयोगियों के झंडे नहीं थे. राहुल ने वायनाड के लोगों को अपना परिवार बताया और कहा कि चुनाव लोकतंत्र और संविधान की लड़ाई है. आइये जानते हैं कि राहुल के वायनाड सीट का क्या है समीकरण:

केरल में लोकसभा की कुल 20 सीटें हैं जिनमें वायनाड भी एक सीट है. यह लोकसभा सीट केरल, तमिलनाडु और कर्नाटक तीनों प्रांतों को जोड़ने वाला इलाका है और तीनों ही प्रांत कांग्रेस के प्रभाव वाले क्षेत्र में आते हैं. एक अनुमान के मुताबिक वायनाड के अधिकांश ग्रामीण आबादी वाले इलाके में हिंदुओं और मुसलमानों की आबादी लगभग बराबर है. हाल के सालों में कांग्रेस इस सीट को सबसे सेफ मानती चली आई है. साल 2019 में अमेठी और वायनाड दोनों लोकसभा सीट से राहुल गांधी ने चुनाव लड़ा था. लेकिन अमेठी में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से उन्हें हार मिली थी.

पिछले चुनावों के नतीजे

वायनाड लोकसभा सीट वर्ष 2009 में अस्तित्व में आई थी. वर्ष 2008 में परीसीमन के बाद इसे लोकसभा सीट बना दिया गया था. साल 2009 में वायनाड लोकसभा सीट पर पहला चुनाव हुआ था. साल 2019 के लोकसभा चुनावों में इस सीट से कांग्रेस ने राहुल गांधी को चुनाव मैदान में उतारा. राहुल गांधी ने इस सीट पर करीब 4 लाख 31 हजार के भारी अंतर से जीत हासिल की थी. इस चुनाव में राहुल गांधी को 7 लाख से ज्यादा वोट मिले थे. वहीं उनके प्रतिद्वंद्वी भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी के पीपी सुनीर को को 2 लाख के करीब वोट मिले थे. इससे पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में भी कांग्रेस ने एमआई शानवास को टिकट दिया और उन्होंने सीपीआई उम्मीदवार पीआर सत्यन मुकरी को 20 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था.

यह भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, बैंक अकाउंट पर आयकर विभाग की कार्रवाई पर स्टे लगाने से ITAT ने किया इनकार

वायनाड का जातीय समीकरण

वायनाड सीट उत्तरी केरल के दो जिलों और सात विधानसभा क्षेत्र में बना है. आंकड़ों के मुताबिक, वायनाड लोकसभा सीट में 56 फीसदी मुस्लिम, 9 फीसदी ईसाई और  एक फीसदी जैन वोटर हैं. हिंदू वोटरों की संख्या काफी कम है. लोकसभा सीट के दो जिलों मलप्पुरम और वायनाड में इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग का दबदबा है. वायनाड जिले में हिंदू आबादी 49.7 प्रतिशत है, जबकि ईसाई की जनसंख्या 21.5 फीसदी है जबकि मुस्लिम आबादी 28.8 प्रतिशत है. मलप्पुरम में 70.4 प्रतिशत मुस्लिम, 27.5 प्रतिशत हिंदू और 2 प्रतिशत ईसाई हैं. अल्पसंख्यक वोटरों के कारण ही वायनाड सीट राहुल गांधी के लिए सुरक्षित मानी जाती है. राहुल की उम्मीदवारी तय करने से पहले कांग्रेस पार्टी ने मुस्लिम लीग के सुप्रीमो पनाकाड हैदरअली शिहाब थंगल से भी बातचीत की थी. अब ये साफ हो गया है कि राहुल गांधी वायनाड से ही चुनाव लड़ेंगे. हालांकि, कहा ये भी जा रहा है कि राहुल गांधी यूपी की अमेठी सीट से भी चुनाव लड़ सकते हैं.

ज़रूर पढ़ें