Lok Sabha Election: क्लोजिंग ईयर के आखिरी दिन महासमर की स्क्रिप्ट तैयार… रामलीला मैदान में इंडी गठबंधन तो मेरठ में पीएम मोदी ने भरी हुंकार

Lok Sabha Election 2024: इस बीच खास बात यह रही कि वित्तीय वर्ष 2023-24 के अंतिन दिन ही देश की राजनीतिक पार्टियों ने अपने चुनावी प्रचार के अभियान का भी शुरूआत कर दी.

Lok Sabha Election

वित्तीय वर्ष 2023-24 के अंतिन दिन ही देश की राजनीतिक पार्टियों ने अपने चुनावी प्रचार के अभियान का भी शुरूआत कर दी

Lok Sabha Election 2024: 31 मार्च रात 12 के बाद वित्तीय वर्ष 2023-24 समाप्त हो जाएगा. 1 अप्रैल से नया 2024-25 वित्तीय वर्ष शुरू हो जाएगा. साथ ही नए वित्तीय वर्ष में कई बदलाव भी होंगे. वहीं देश में 18वीं लोकसभा के लिए चुनाव की तारीखों का भी ऐलान निर्वाचन आयोग की ओर से कर दिया गया है. इस बीच खास बात यह रही कि वित्तीय वर्ष 2023-24 के अंतिन दिन ही देश की राजनीतिक पार्टियों ने अपने चुनावी प्रचार के अभियान का भी शुरूआत कर दी. ऐसे में जानते हैं कि वित्तीय वर्ष 2023-24 के अंतिम दिन देश में कैसी रही चुनावी सरगर्मी.

पीएम मोदी की उत्तर प्रदेश में रैली

वित्तीय वर्ष 2023-24 के अंतिम दिन 31 मार्च को लोकसभा चुनाव का 2024 का शंखनाद करने मेरठ पहुंचे पीएम मोदी का सीएम योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान, हरियाणा के नए सीएम नायब सिंह सैनी, RLD प्रमुख जयंत चौधरी, सुभासपा प्रमुख ओपी राजभर, RLD से मंत्री अनिल, मंत्री संजय निषाद, अनुप्रिया पटेल और बागपत से RLD प्रत्याशी राजकुमार सांगवान ने जोरदार स्वागत किया. इसके बाद पीएम मोदी समेत सभी नेताओं ने रैली को संबोधित किया. पीएम मोदी ने इस दौरान विपक्ष पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा, ‘मैं भ्रष्टाचार पर कार्रवाई कर रहा हूं तो इससे कुछ लोग बौखला गए हैं, वे अपना आपा खो बैठे हैं. मैं कहता हूं, मोदी का गारंटी कहती है, भ्रष्टाचार हटाओ. वह कहते हैं कि भ्रष्टाचारी बचाओ, यह चुनाव इन दो खेमों की लड़ाई है.’

‘INDI’ गठबंधन की दिल्ली में मेगा रैली

वित्तीय वर्ष 2023-24 के आखिरी दिन विपक्षी दलों के ‘INDI’ गठबंधन की ओर से 31 मार्च को दिल्ली में महारैली का आयोजन किया गया. इस रैली में 28 दलों के नेता और प्रतिनिधि शामिल हुए. महारैली में अरविंद केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल समेत कई AAP नेता मौजूद रहे. कांग्रेस से मल्लिकार्जुन खड़गे, राहुल गांधी, सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी महाराष्ट्र से शरद पवार, उद्धव ठाकरे, यूपी से अखिलेश यादव, बिहार से तेजस्वी यादव, पश्चिम बंगाल से ममता बनर्जी के प्रतिनिधि डेरेक ओ ब्रायन शामिल हुए. इसके साथ ही CPI(M) महासचिव सीताराम येचुरी, डीएमके के सांसद तिरुचि सिवा, पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान, झारखंड के मुख्यमंत्री चंपई सोरन और पूर्व CM हेमंत सोरेन की पत्नी कल्पना सोरेन भी मौजूद रहीं. जम्मू-कश्मीर से फारुख अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती समेत देश की लेफ्ट पार्टियों के प्रमुख नेता भी रैली में हिस्सा लिया. इस दौरान सभी नेताओं ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला.

यह भी पढ़ें: Lok Sabha Election 2024: ‘मैं भ्रष्टाचार पर कार्रवाई कर रहा हूं तो कुछ लोग बौखला गए हैं’, मेरठ में बोले पीएम मोदी

अमित शाह ने राजस्थान में किया रोड शो

वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी लोकसभा चुनाव की तारीख नजदीक आते ही BJP के प्रचार-प्रसार में जुट गए. इसी कड़ी में BJP प्रत्याशी सुमेधानंद सरस्वती के समर्थन में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सीकर में रोड शो किया. इस रोड शो में राजस्थान के सीएम भजनलाल शर्मा भी मौजूद रहे.

कृष्णानगर में ममता बनर्जी की रैली

पश्चिम बंगाल में सियासी सरगर्मी तेज हो चुकी है. इसी कड़ी में 31 मार्च को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नादिया जिले के कृष्णानगर में रैली का आयोजन किया. इस दौरान उन्होंने लोगों से विश्वासघात के स्थान पर सत्य को चुनने का आग्रह किया. उन्होंने दावा किया कि बंगाल में हम ही अपवित्र गठबंधन से लड़ रहे हैं.

ज़रूर पढ़ें