Lok Sabha Election 2024: नीतीश सरकार से लोग नाराज और पीएम मोदी से खुश, जानिए किसे इस बार प्रधानमंत्री बनाना चाहती है बिहार की जनता

Lok Sabha Election 2024: सर्वे के मुताबिक बिहार की जनता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से नाराज है. वहीं बिहार की जनता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामकाज को लेकर ज्यादा संतुष्ट नजर आए हैं.

Lok Sabha Election,

पीएम मोदी और सीएम नीतीश कुमार

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव के मद्देनजर देश में सियासी हलचल तेज हो चुकी है. 19 अप्रैल को पहले चरण का मतदान होना है. इस बीच बिहार में भी पहले चरण के दौरान 4 लोकसभा सीटों के लिए मतदान होना है. ऐसे में एक सर्वे में के नतीजों में चौंकाने वाले आंकड़े निकलकर सामने आ रहे हैं. सर्वे के मुताबिक बिहार की जनता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से नाराज है. वहीं बिहार की जनता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामकाज को लेकर ज्यादा संतुष्ट नजर आए हैं.

46 फीसदी नीतीश सरकार से असंतुष्ट

सी वोटर के एक सर्व के अनुसार सीएम नीतीश कुमार की सरकार के कामकाज से जुड़े सवाल पर बिहार की जनता बहुत ज्यादा खुश नहीं दिखी. सर्वे में लोगों से सवाल पूछा गया कि वह नीतीश कुमार के कामकाज से कितना संतुष्ट हैं. इस पर 23 फीसदी लोगों ने बहुत ज्यादा के विकल्प को चुना. वहीं, 30 फीसदी लोग कामकाज से कम संतुष्ट नजर आए. सर्वे में 46 फीसदी नीतीश सरकार के कामकाज से असंतुष्ट दिखे हैं. 1 फीसदी लोगों ने पता नहीं के विकल्प को चुना.

असंतुष्टों का आंकड़ा 26 फीसदी

केंद्र सरकार के कामकाज को लेकर पुछे जाने वाले सवाल पर 46 फीसदी लोगों ने बहुत ज्यादा संतुष्ट के विकल्प को चुना है. वहीं, 27 फीसदी लोगों ने कम संतुष्ट का विकल्प चुना है. इस दौरान केंद्र सरकार के काम से असंतुष्टों का आंकड़ा 26 फीसदी देखा गया. इस दौरान भी 1 फीसदी लोगों ने पता नहीं के विकल्प को चुना.

यह भी पढ़ें: Lok Sabha Election 2024: कल नामांकन करेंगे पप्पू यादव, कहा- ‘कुछ लोग इतना चिढ़े हैं कि अपमान करने के लिए कुछ भी करेंगे’

कौन है प्रधानमंत्री पद के लिए पसंद?

बिहार की जनता से प्रधानमंत्री पद के लिए पसंद का सवाल किया गया तो चौंकाने वाले परिणाम सामने आए. सर्वे में शामिल 67 फीसदी लोगों ने नरेंद्र मोदी को अपनी पसंद बताया. वहीं, राहुल गांधी के नाम पर 24 फीसदी लोगों अपना विचार रखा. वहीं 6 फीसदी लोगों ने दोनों नहीं के विकल्प को चुना. साथ ही 3 फीसदी लोगों ने पता नहीं का विकल्प चुना.

ज़रूर पढ़ें