Lok Sabha Election 2024: ‘पिता के चरित्र के विपरीत किया आचरण’, स्वामी प्रसाद मौर्य की सख्त टिप्पणी, बोले- संघमित्रा को बेटी कहने में आती है शर्म

Lok Sabha Election 2024: संघमित्रा(Sanghmitra Maurya) का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह रोते हुई नजर आ रही थी. इसी वीडियो को लेकर स्वामी प्रसाद मौर्य(Swami Prasad Maurya) ने अपनी बेटी पर सख्त टिप्पणी की है.

Lok Sabha Election, Swami Prasad Maurya, Sanghmitra Maurya

स्वामी प्रसाद मौर्य ने संघमित्रा मौर्य को लेकर दी

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव को लेकर देश में राजनीतिक हलचल तेज है. वहीं उत्तर प्रदेश के सियासत से जुड़ी बड़ी खबर सामने आ रही है. यूपी सरकार के पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने भारतीय जनता पार्टी की नेता और बदायूं से सांसद संघमित्रा मौर्य(Sanghmitra Maurya) को लेकर सख्त प्रतिक्रिया दी है. दरअसल, उनकी बेटी मौर्य संघमित्रा का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह रोते हुई नजर आ रही थी. इसी वीडियो को लेकर स्वामी प्रसाद मौर्य ने अपनी बेटी पर सख्त टिप्पणी की है.

‘पिता के चरित्र के विपरीत आचरण किया’

स्वामी प्रसाद मौर्य(Swami Prasad Maurya) ने ‘ABP News’ से बात करते हुए कहा मुझे, ‘संघमित्रा मौर्य को अपनी बेटी कहने में शर्म आती है. उसने मंच पर रोकर अपने पिता के चरित्र के विपरीत आचरण किया. बेटी होने का मतलब यह नहीं कि उनकी गलतियां माफ हो गई. रोना-धोना ओछी और बचकानी बातें हैं. उन्होंने आगे कहा कि मुझे उनके टिकट कटने का कोई दुख नहीं है. टिकट तो कटना ही था. उन्होंने दावा किया, ‘मैंने उससे कहा कि उसे आरक्षण खत्म करने वाले दल के साथ नहीं खड़ा होना चाहिए. अनुसूचित जाति और जनजाति की राजनीति करने वाले लोग अगर उनका आरक्षण खत्म करने वालों के साथ खड़े हैं, इसे अच्छा नहीं कहा जा सकता. जो सांसद रह चुका है वो दूध पीता बच्चा नहीं है. उसे खुद विवेक होना चाहिए. BJP प्रतिभाओं को आगे बढ़ने से रोकती है.

यह भी पढ़ें: Lok Sabha Election 2024: शिवपाल यादव ने छोड़ी बदायूं सीट, बेटे के नाम का भेजा प्रस्ताव, अब क्या फैसला लेंगे अखिलेश यादव?

टिकट कटने से नाराज नहीं- संघमित्रा मौर्य

बताते चलें कि मंगलवार को बदायूं में सीएम योगी आदित्यनाथ की सभा आयोजित की गई थी. इससे बदायूं से मौजूदा सांसद संघमित्रा मौर्य का एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें वह रोती हुई दिखी. इसके बाद में पत्रकारों से बात करते हुए संघमित्रा ने कहा था कि उनके बगल बैठी यूपी सरकार की मंत्री गुलाबो देवी ने उन्हें राजा दशरथ की एक कहानी सुनाई, जिससे वह भावुक हो गई और उनकी आंखें नम हो गई. इस दौरान उन्होंने दावा किया कि वह टिकट कटने जैसी बात से नाराज नहीं हैं और अगर ऐसा होता तो वह कार्यक्रम से दूरी बना लेती.

ज़रूर पढ़ें