Lok Sabha Election 2024: पिनराई विजयन के भाषण पर BJP पहुंची चुनाव आयोग, केरल के सीएम पर लगाया आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप

Lok Sabha Election 2024: BJP ने केरल के सीएम पर आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगाया है और उनके खिलाफ तत्काल कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है.

Pinarayi Vijayan, Lok Sabha Election

केरल सीएम पिनाराई विजयन

Lok Sabha Election 2024: देश में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर सियासी खींचतान तेज हो गई है. वहीं केरल की सत्तारूढ़ पिनराई विजयन सरकार और भारतीय जनता पार्टी में जारी तनाव थमने का नाम नहीं ले रहा है. ऐसे में BJP ने चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया है. BJP ने EC से केरल के सीएम पिनराई(Pinarayi Vijayan) विजयन पर चुनाव में प्रचार करने पर रोक लगाने की मांग की है. BJP ने केरल के सीएम पर आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगाया है और उनके खिलाफ तत्काल कानूनी कार्रवाई करने की मांग की हैं.

केके. सुरेंद्रन ने चुनाव आयोग को लिखा पत्र

केरल के BJP कार्यकारी सदस्य केके. सुरेंद्रन ने चुनाव आयोग को एक पत्र लिखा है. पत्र में उन्होंने आरोप लगाया है कि सीएम पिनराई विजयन ने धर्म के नाम पर प्रचार करके चुनाव में आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया है. बीजेपी नेता ने अपने पत्र में सीएम के भाषण के एक हिस्से का जिक्र करते हुए कहा कि कल उन्होंने मलप्पुरम में सीपीआईएम ने संविधान सुरक्षा रैली का आयोजन किया, जहां उन्होंने धार्मिक भावनाएं भड़काने, दंगे भड़काने और राजनीतिक लाभ लेने की मंशा से बयान दिया.

रमजान के दौरान आयोजित किया गया कार्यक्रम

केके. सुरेंद्रन ने आरोप लगाया है कि राज्य सरकार की ओर से आयोजित यह कार्यक्रम विशेष रूप से रमजान के दौरान मुस्लिम समुदाय के लोगों के बीच भय और नफरत पैदा करने के इरादे से रखा गया था. सीएम ने अपने भाषण में कहा कि मुसलमानों को नागरिक नहीं माना जाता है, मुसलमान नागरिकता के लिए भी आवेदन नहीं कर सकते हैं, उनको नागरिक अधिकारों से वंचित किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें: Lok Sabha Election: ‘मोदी-मोदी करने वाले छात्रों को मारो थप्पड़’, कर्नाटक के मंत्री के विवादित बयान पर बवाल

लोगों को गुमराह कर रहा सीएम का भाषण- BJP नेता

बीजेपी नेता के पत्र के मुताबिक सीएम के भाषण का मतलब है कि कोई भी मुस्लिम कानून के आधार पर भारत में नहीं रह सकता. उनका यह भाषण केरल के लोगों को गुमराह करने के लिए है, क्योंकि उन्होंने ये भी कहा कि केरल में CAA और NPR जैसे कानूनों को लागू नहीं करेंगे. उनके यह शब्द हिंदू-मुस्लिम के बीच दरार पैदा करने का काम करेंगे और इससे उनके बीच नफरत पैदा होगी.

ज़रूर पढ़ें