Lok Sabha Election 2024: ‘चुनाव के बाद देखते हैं, अभी लंबा समय है’, वरुण गांधी का टिकट कटने पर बोलीं मेनका गांधी

Lok Sabha Election 2024: भाजपा सांसद वरुण गांधी को उनके निर्वाचन क्षेत्र से टिकट नहीं दिए जाने के कुछ दिनों बाद, उनकी मां और भाजपा सांसद मेनका गांधी ने चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि पार्टी का हिस्सा बनने पर मुझे बहुत खुशी है.

Lok Sabha Election 2024

बीजेपी सांसद मेनका गांधी

Lok Sabha Election 2024: देशभर में होने जा रहे लोकसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है. जिसको देखते हुए राजनीतिक दलों के साथ-साथ प्रत्याशी भी अब सक्रिया हो गए हैं. अपने निर्वाचन क्षेत्र में चुनाव प्रचार करने और मतदाताओं से समर्थन मांगने के लिए उम्मीदवार एड़ी चोटी का दम लगा रहे हैं. इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर लोकसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी मेनका गांधी अपने 10 दिवसीय यात्रा पर सुल्तानपुर पहुंची हैं. जहां उन्होंने पीलीभीत सांसद और अपने बेटे वरुण गांधी को भाजपा द्वारा टिकट नहीं दिए जाने पर अपनी प्रतिक्रिया दी हैं.

भाजपा सांसद वरुण गांधी को उनके निर्वाचन क्षेत्र से टिकट नहीं दिए जाने के कुछ दिनों बाद, उनकी मां और भाजपा सांसद मेनका गांधी ने चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि पार्टी का हिस्सा बनने पर मुझे बहुत खुशी है. यह पूछे जाने पर कि वरुण गांधी अब क्या करेंगे, उन्होंने कहा, “उनसे पूछें कि वह क्या करना चाहते हैं. हम चुनाव के बाद इस पर विचार करेंगे. अभी समय है.”

ये भी पढ़ें- Lok Sabha Election 2024: चुनावी मिशन पर पीएम मोदी, उत्तराखंड में करेंगे शंखनाग, पहले चरण में होनी है वोटिंग

“मैं बहुत खुश हूं कि मैं बीजेपी में हूं”

बीजेपी सांसद मेनका गांधी ने आगे कहा, “मैं बहुत खुश हूं कि मैं बीजेपी में हूं. मुझे टिकट देने के लिए मैं अमित शाह, पीएम मोदी और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा जी को धन्यवाद देती हूं. टिकट की घोषणा बहुत देर से की गई, इसलिए दुविधा थी कि मुझे पीलीभीत या सुल्तानपुर कहां से चुनाव लड़ना चाहिए. उन्होंने आगे ये भी कहा कि पार्टी ने अब जो फैसला लिया है, उसके लिए मैं आभारी हूं.

टिकट कटने पर वरुण गांधी ने लिखा था पत्र

गौरतलब है कि पीलीभीत से टिकट कटने के बाद हाल ही में वरुण गांधी ने अपने संसदीय क्षेत्र की जनता को भावुक पत्र लिखा था. जिसमें उन्होंने कहा कि एक सांसद के तौर पर मेरा कार्यकाल भले समाप्त हो रहा हो पर पीलीभीत से मेरा रिश्ता अंतिम सांस तक खत्म नहीं हो सकता. वरुण गांधी ने सोशल मीडिया मंच X पर पत्र को शेयर किया था. उन्होंने पीलीभीत वासियों से कहा- “आज जब मैं यह पत्र लिख रहा हूं, तो अनगिनत यादों ने मुझे भावुक कर दिया है.

वरुण ने आगे लिखा, ‘मुझे वो 3 साल का छोटा सा बच्चा याद आ रहा है जो अपनी मां की उंगली पकड़ कर 1983 में पहली बार पीलीभीत आया था, उसे कहां पता था एक दिन यह धरती उसकी कर्मभूमि और यहां के लोग उसका परिवार बन जाएंगे.”

ज़रूर पढ़ें