Lok Sabha Election: आतंकी हमले में दादा की मौत, कांग्रेस से तीन बार रहे सांसद… जानें कौन हैं रवनीत सिंह बिट्टू, जिन्होंने थामा BJP का दामन

Lok Sabha Election: रवनीत सिंह बिट्टू बड़े राजनीतिक परिवार से ताल्लुक रखते हैं. वह पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते हैं. उन्होंने 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में लुधियाना से जीत दर्ज की थी.

Lok Sabha Election

रवनीत सिंह बिट्टू भाजपा में शामिल

Lok Sabha Election: लोकसभा चुनाव से पहले पंजाब में कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. लुधियाना से सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने पार्टी को अलविदा कह दिया है. कांग्रेस छोड़ने के बाद बिट्टू भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए.  सूत्रों के अनुसार, रवनीत सिंह बिट्टू बीजेपी के टिकट पर लुधियाना से चुनाव लड़ सकते हैं.

कौन हैं रवनीत सिंह बिट्टू?

10 सितंबर 1975 को जन्मे रवनीत सिंह बिट्टू बड़े राजनीतिक परिवार से ताल्लुक रखते हैं. वह पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते हैं. उन्होंने 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में लुधियाना से जीत दर्ज की थी. इससे पहले 2009 में वह आनंदपुर साहिब से लोकसभा के लिए चुने गए थे.

बता दें कि 31 अगस्त 1995 को रवनीत सिंह बिट्टू के दादा बेअंत सिंह की हत्या कर दी गई थी. पंजाब के पूर्व सीएम बेअंत सिंह पंजाब-हरियाणा सचिवालय के बाहर अपनी कार में मौजूद थे. इस दौरान एक खालिस्तानी आतंकी मानवबम बनकर वहां पहुंचा और अपने आप को उड़ा लिया. इस धमाके में बेअंत सिंह समेत एक दर्जन से अधिक लोगों की मौत हो गई थी.

बीजेपी में शामिल होने के बाद क्या बोले बिट्टू?

बीजेपी में शामिल होने के बाद रवनीत सिंह बिट्टू ने केंद्र सरकार की प्रशंसा की है. उन्होंने कहा, “जब भी मैंने पंजाब के मुद्दे उठाए तो प्रधानमंत्री और गृह मंत्री ने इसे हमेशा सकारात्मक रूप से लिया..”

ये भी पढ़ेंः अकाली दल के साथ गठबंधन पर नहीं बनी बात, पंजाब में अकेले चुनाव लड़ेगी बीजेपी

आठ सीटों पर जीती थीं कांग्रेस

पिछले लोकसभा चुनाव में पंजाब की 13 सीटों में से आठ सीटों पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी. वहीं, बीजेपी और शिरोमणि अकाली दल ने 2-2 सीटों पर जीत हासिल की थी. आम आदमी पार्टी के खाते में संगरूर सीट आई थी. इसबार राज्य की सभी सीटों पर 1 जून को मतदान होगा. वहीं कांग्रेस, बीजेपी, आम आदमी पार्टी और शिरोमणि अकाली दल के बीच मुकाबला देखने को मिलेगा.

ज़रूर पढ़ें