MP News: अप्रैल फूल बनाने के चक्कर में गई छात्र की जान, जानिए क्या है पूरा मामला

Indore News: छात्र अभिषेक रघुवंशी को अपने दोस्त को वीडियो कॉल के माध्यम से अप्रैल फूल बनाने का प्रयास करना जानलेवा साबित हो गया.

sad-man-holding-hangman-

प्रतीकात्मक तस्वीर (सोशल मीडिया)

Indore: कई बार मजाक भारी पड़ जाता है. इसके कई मामले देखने को मिलते हैं. ऐसा ही एक मामला इंदौर से सामने आया है. जहां दसवी कक्षा के एक छात्र को अपने दोस्त को वीडियो कॉल के माध्यम से अप्रैल फूल बनाने के चक्कर में कैसे अपनी जान से हाथ धोना पड़ गया. मामला इंदौर के मल्हारगंज थाना क्षेत्र का है.

यह है पूरा मामला

इंदौर की जनता कॉलोनी के रहने वाले दसवी कक्षा के छात्र अभिषेक रघुवंशी को अपने दोस्त को वीडियो कॉल के माध्यम से अप्रैल फूल बनाने का प्रयास किया जो कि जानलेवा साबित हो गया. छात्र ने अपने दोस्त को वीडियो कॉल कर स्टूल पर खड़ा होकर उसने अपने गले में फंदा डालकर दोस्त से कहा कि वह फांसी लगा रहा है. इससे पहले कोई कुछ समझ पाता उसका बैलेंस बिगड़ गया और इस फंदे में उसे फांसी लग गई, जिससे उसकी मौत हो गई.

क्या है फूल डे

1 अप्रैल को कई जगहों पर फूल डे यानी मूर्ख दिवस के तौर पर मनाया जाता है. बचपन से हम देखते आ रहे है कि इस दिन एक दूसरे को मूर्ख बनाने का प्रयास किया जाता है. इसमें कई बार गलत जानकारी की वजह से कई लोगो को समस्याओं का सामना भी करना पड़ जाता है.

ये भी पढ़े: मुरैना, ग्वालियर और खंडवा सीट पर जल्द होंगे प्रत्याशियों के ऐलान, पंकज के बजाय नीटू पर एआईसीसी का भरोसा, ज्ञानेश्वर के सामने होंगी पूर्व सांसद की बहू

फूल डे पर मजाक करना सामान्य बात

इस मामले को लेकर मनोचिकित्सक का मानना है कि फूल डे पर एक दूसरे के साथ मजाक करना सामान्य बात है. लेकिन इस तरह का मजाक करने का प्रयास करना बिलकुल भी सामान्य बात नही है. आज के समय में बच्चे स्क्रीन टाइम बहुत अधिक दे रहे है. वे क्या देख रहे है इस पर परिजन का कोई नियंत्रण नहीं है. ऐसे में बच्चो को यह बताने को आवश्यकता है कि डिप्रेशन और सुसाइड क्या होता है.

पुलिस ने दी जानकारी

एडिशनल राजेश दंडोतिया ने बताया कि मल्हारगंज में रहने वाले अभिषेक रघुवंशी पिता कैलाश रघुवंशी के बेटे द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या की सूचना मिली. जब पूरे मामले की जांच की गई तो पुलिस भी चौंक गई. जांच में हमने छात्र का फोन खंगाला तो उसमें से कुछ जानकारी सामने आई. जिसके बाद सच्चाई का पता चला.

पिता एसडीएम के ड्राइवर

अभिषेक के पिता इंदौर में एसडीएम के ड्राइवर है. उसके आकस्मिक निधन से पूरा परिवार स्तब्ध है. वे किसी से कोई बात नही कर रहे, हंसमुख स्वभाव का अभिषेक बहुत मिलनसार स्वभाव का और स्कूल में होनहार छात्र था.

ज़रूर पढ़ें