UP News: ‘उनकी मौत दुखद घटना’, मुख्तार अंसारी को ओपी राजभर ने बताया क्रांतिकारी, बोले- जब भी ज्यादती होगी तो…

UP News: योगी सरकार में मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने मुख्तार अंसारी को गरीबों का मसीहा बताया है. उन्होंने कहा कि जब भी किसी गरीब पर ज्यादती होगी तो गरीब के साथ जो खड़ा दिखाई देगा वो मसीहा ही कहा जाएगा.

UP News

ओम प्रकाश राजभर (फाइल फोटो)

UP News: माफिया डॉन मुख्तार अंसारी को शनिवार, 30 मार्च को कब्रिस्तान में दफना दिया गया. परिवार की मौजूदगी में मुख्तार को गाजीपुर स्थित यूसुफपुर मोहम्मदाबाद के कालीबाग कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक किया गया. उनकी मौत के बाद से सियासी बयानबाजी का दौर जारी है. इस बीच, योगी सरकार में मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने मुख्तार अंसारी को गरीबों का मसीहा और क्रांतिकारी बताया है.

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने मुख्तार अंसारी की मौत को दुखद घटना बताया है. एक निजी न्यूज़ चैनल को दिए इंटरव्यू में राजभर ने कहा कि जब भी किसी गरीब पर ज्यादती होगी तो गरीब के साथ जो खड़ा दिखाई देगा वो मसीहा ही कहा जाएगा. उन्होंने कहा कि मुख्तार को लेकर कई लोगों के बयान आएं है कि हमारी जान बचाई..हमारी मदद की.. जब उन्होंने गरीबों की मदद की है तो वो गरीबों के मसीहा होंगे ही. वहीं, मुख्तार अंसारी को क्रांतिकारी बताने वाले अपने पुराने बयान पर राजभर ने कहा कि वो आज भी इसपर कायम हैं.

ये भी पढ़ेंः गाजीपुर में सुपुर्द-ए-खाक हुआ मुख्तार अंसारी, आखिरी बार माफिया की मूंछों पर ताव देता दिखा छोटा बेटा

SBSP से विधायक हैं मुख्तार का बेटा

बता दें पिछले यूपी विधानसभा चुनाव में मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी ने सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (SBSP) के टिकट पर मऊ से जीत दर्ज की थी. 2022 विधानसभा चुनाव के दौरान ओम प्रकाश राजभर की पार्टी और सपा ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था. वहीं, ओपी राजभर का कहना है कि उन्होंने अब्बास अंसारी को सपा प्रमुख अखिलेश यादव के कहने पर अपनी पार्टी का सिंबल दिया था.

अपराध की दुनिया का रहा बेताज बादशाह

गैंगस्टर से नेता बने मुख्तार अंसारी के खिलाफ 60 से अधिक मामले दर्ज थे. इनमें हत्या, हत्या के प्रयास, अपहरण, गुंडा एक्ट, गुंडा एक्ट, आर्म्स एक्ट, गैंगस्टर एक्ट, सीएलए एक्ट से लेकर एनएसए तक शामिल हैं. इनमें से उसे आठ मामलों में अंसारी को सजा हो चुकी थी.

बांदा जेल में बिगड़ी थी तबीयत

उत्तर प्रदेश की बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी की गुरुवार, 28 मार्च को शाम करीब साढ़े 8 बजे तबीयत बिगड़ी थी. मुख्तार को उल्टी होने के बाद बेहोशी की हालत में रानी दुर्गावती मेडिकल कॉलेज के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया था. जहां इलाज के दौरान कार्डियक अरेस्ट से उसकी मौत हो गई.

ज़रूर पढ़ें