MP News: मिल गई अपहरण की फर्जी कहानी वाली छात्रा काव्या, पिता से मांगी थी 30 लाख की फिरौती

Fake kidnapping Case: शिवपुरी जिले के बैराड़ में रहने वाले रघुवीर धाकड़ की बेटी काव्या अपने दोस्त हर्षित के साथ 18 मार्च को लापता हो गई थी. बाद मे पुलिस ने उसके बारे में पता लगा लिया था.

kavya dhakad shivpuri kidnapping case

काव्या की तस्वीर और भेजे गए मैसेज

Indore: शिवपुरी की रहने वाली NEET छात्रा काव्या धाकड़ आखिर मिल ही गई. क्राइम ब्रांच पुलिस ने काव्या को ढूंढ निकाला. 3 अप्रैल मंगलवार को क्राइम ब्रांच ने छात्रा काव्या धाकड़ को देवगुराड़िया (खुड़ैल) के आगे इंडेक्स मेडिकल कॉलेज के पास उसे सहेली के कमरे से बरामद कर लिया गया. अब पुलिस काव्या और उसके दोस्त से पूछताछ करेगी. काव्या वही लड़की है जिसने खुद के अपहरण की फर्जी कहानी रचकर अपने पिता से 30 लाख फिरौती की डिमांड की थी. बाद में पुलिस ने काव्या की कहानी का पर्दाफाश किया था. लेकिन काव्या मिल नही पा रही थी.

यह था पूरा मामला

शिवपुरी जिले के बैराड़ में रहने वाले रघुवीर धाकड़ की बेटी काव्या अपने दोस्त हर्षित के साथ 18 मार्च को लापता हो गई थी. छात्रा के पिता रघुवीर धाकड़ ने बताया कि उनकी बेटी काव्या धाकड़ कोटा में नीट की तैयारी के लिए कोटा गई हुई थी. वह कोटा में सितंबर 2023 से रह रही थी. 18 मार्च सोमवार को दोपहर 3 बजे छात्र के पिता रघुवीर के मोबाइल पर सोशल मीडिया एप व्हाट्सएप पर एक नंबर से मैसेज आया. मैसेज में छात्रा के हाथ पैर और मुंह बंधे हुए फोटो थी. इनमें कुछ फोटो में छात्रा के चेहरे पर खून भी नजर आ रहा है. फोटो भेजने वाले ने मैसेज में लिखा कि रघुवीर की बेटी को किडनैप कर लिया गया है. उसे जिंदा छोड़ने के बदले 30 लाख रुपए की फिरौती मांगी गई थी.

ये भी पढ़े: क्या है भोपाल पुलिस का ‘फ्यूचर प्लान’? अपराधियों पर कैसे लगेगी लगाम, साइबर अपराध के खिलाफ क्या रहा प्लान, जानें क्या बोले पुलिस कमिश्नर

पुलिस को मिली थी CCTV फुटेज

पुलिस के मुताबिक 20 मार्च को इंदौर में NEET छात्रा और उसके दोस्त एक सीसीटीवी वीडियो मे नजर आए थे. इसी दिन यह लोग अमृतसर के लिए निकले थे और 2 दिन पहले लौटे और देवगुराड़िया के पास शिवाजी नगर में किराए से कमरा ले लिया था.

20 हजार रुपए के इनाम थी घोषणा

फर्जी अपहरण की कहानी के बाद इंदौर क्राइम ब्रांच और राजस्थान पुलिस की टीमें लगातार काव्या को तलाश रही थीं. पुलिस को काव्या की लोकेशन लगातार इंदौर और आसपास ही मिल रही थी. काव्या और उसके दोस्त पर 20 हजार रुपए इनाम भी घोषणा की गई थी.

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने  CM भजन लाल शर्मा से की थी बात

परेशान पिता की खबर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया तक पहुंची तो वह तुरंत ही इस मामले की तहकीकात में लग गए थे. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इस मामले में राजस्थान के सीएम से बात करके बोला था कि, पुलिस जल्द से जल्द तहकीकात कर हमारी बेटी को वापस लाए.

 

ज़रूर पढ़ें