एक दो नहीं बल्कि 5 सीटों पर फंसा है पेंच, क्या बिहार में टूट जाएगा ‘इंडी गठबंधन’? जानें अब तक क्यों नहीं बन पाई है बात

राजद ने अपने उम्मीदवारों को एकतरफा पार्टी सिंबल बांट दिया है. राजद ने औरंगाबाद से अभय कुशवाहा को पार्टी का चुनाव चिन्ह दिया है, जो हाल ही में जनता दल (यूनाइटेड) से आए हैं. वहीं कांग्रेस ने नागालैंड और केरल के पूर्व राज्यपाल निखिल कुमार के लिए टिकट की मांग की.

Lalu yadav, rahul gandhi

लालू यादव, राहुल गांधी

Lok Sabha Election 2024: बिहार में पहले चरण के मतदान में मुश्किल से अब एक महीने भी नहीं बचा है, लेकिन महागठबंधन में अभी तक सीटों का बंटवारा नहीं हुआ है. अब सवाल उठ रहा है कि क्या महागठबंधन के बीच सबकुछ ठीक है? अगर सबकुछ ठीक है तो सीटों के बंटवारे में देरी क्यों? कहा जा रहा है कि कांग्रेस की मांग की वजह से सीट बंटवारा नहीं हो पा रहा है. बिहार में लोकसभा की कुल 40 सीटें हैं और महागठबंधन में राष्ट्रीय जनता दल आरजेडी के साथ ही कांग्रेस और लेफ्ट पार्टियां भी शामिल हैं.

40 सीटों पर साथ चुनाव लड़ने के लिए 4 पार्टियां एक साथ आई हैं और सीट शेयरिंग की गुत्थी कुछ सीटों पर आकर उलझ गई है. कुछ सीटें ऐसी हैं जिन पर कांग्रेस और आरजेडी, दोनों ही दावा कर रही है, वहीं कुछ सीटों पर लेफ्ट ने भी दावा ठोक दिया है. सूत्रों के मुताबिक, जिन सीटों पर पेंच फंसा है, उनमें औरंगाबाद, बेगूसराय, कटिहार, सिवान के साथ ही पूर्णिया शामिल हैं.

राजद ने कांग्रेस पर लगाए आरोप

राजद ने अपने उम्मीदवारों को एकतरफा पार्टी सिंबल बांट दिया है. राजद ने औरंगाबाद से अभय कुशवाहा को पार्टी का चुनाव चिन्ह दिया है, जो हाल ही में जनता दल (यूनाइटेड) से आए हैं. वहीं कांग्रेस ने नागालैंड और केरल के पूर्व राज्यपाल निखिल कुमार के लिए टिकट की मांग की. इस बीच, लालू प्रसाद यादव के नेतृत्व वाली राजद ने चुनाव चिह्न वितरण को लेकर कांग्रेस पर पलटवार किया है और उस पर बेहतर समन्वय के लिए अपनी पसंदीदा सीटें साझा नहीं करने का आरोप लगाया है. वहीं निखिल कुमार ने इस मामले पर राजद को “गठबंधन धर्म” की याद दिलाई.

औरंगाबाद के अलावा बेगुसराय सीट पर भी कांग्रेस और राजद में विवाद है. इस बीच भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) ने एकतरफा फैसला लेते हुए इस सीट से अवधेश राय को अपना लोकसभा उम्मीदवार घोषित कर दिया.

यह भी पढ़ें: CM केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ AAP का प्रदर्शन, पुलिस ने कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया, BJP कार्यकर्ता भी सड़क पर उतरे

सीपीआई ने भी कुछ सीटों पर ठोका दावा

पूर्णिया में कांग्रेस ने जन अधिकार पार्टी से आए पप्पू यादव के लिए टिकट की मांग की है, जबकि लालू प्रसाद का पक्ष रूपौली से विधायक बीमा भारती को चुनाव लड़ाना चाहता है. भारती हाल ही में जदयू छोड़ राजद में शामिल हुईं. सीवान सीट पर भी कांग्रेस और राजद के बीच सीट बंटवारे पर सहमति अटकी हुई है. लालू प्रसाद की पार्टी ने बिहार विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी के लिए टिकट की मांग की है. सूत्रों के मुताबिक सीपीआई और सीपीआई (एमएल) भी सीवान सीट के लिए प्रयासरत हैं.

कांग्रेस ने तारिक अनवर को मैदान में उतारने के उद्देश्य से कटिहार निर्वाचन क्षेत्र पर भी दावा किया है. हालांकि, राजद की नजर कटिहार सीट पर भी है. इस बीच, सीपीआई ने जहानाबाद, मधुबनी और बांका सीटों पर दावा किया है, जबकि पार्टी ने लोकसभा चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा शुरू कर दी है. सीपीआई ने बेगुसराय से अवधेश राय के अलावा खगड़िया से संतोष कुमार को अपना उम्मीदवार घोषित किया है. बताते चलें कि बिहार की 40 सीटों पर लोकसभा चुनाव सात चरणों में 19 अप्रैल, 26 मई, 7, 13, 20, 25 और 1 जून को होंगे.

ज़रूर पढ़ें