Lok Sabha Election 2024: गौरव वल्लभ ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा, बोले- ‘सनातन विरोधी नारे नहीं लगा सकता’, पार्टी को बताया दिशाहीन

Lok Sabha Election 2024: गौरभ वल्लभ ने कांग्रेस छोड़ते हुए लिखा, ‘मैं कांग्रेस पार्टी के सभी पदों व प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफ़ा दे रहा हूं.’

Gourav Vallabh

पूर्व कांग्रेस नेता गौरव वल्लभ

Lok Sabha Election 2024: गौरव वल्लभ ने कांग्रेस पार्टी से अपना इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने अपने सोशल मीडिया के एक्स प्लेट फॉर्म पर एक पोस्ट के जरिए इसकी जानकारी दी है. उन्होंने अपने पोस्ट में कांग्रेस को दिशाहीन करा दिया है. साथ ही पार्टी के सभी पदों और प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया है. उन्होंने अपने पोस्ट के साथ एक चिट्ठी भी शेयर की है.

उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “कांग्रेस पार्टी आज जिस प्रकार से दिशाहीन होकर आगे बढ़ रही है,उसमें मैं ख़ुद को सहज महसूस नहीं कर पा रहा. मैं ना तो सनातन विरोधी नारे लगा सकता हूं और ना ही सुबह-शाम देश के वेल्थ क्रिएटर्स को गाली दे सकता हूं. इसलिए मैं कांग्रेस पार्टी के सभी पदों व प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफ़ा दे रहा हूं.” गौरव वल्लभ ने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे को लिखी चिट्ठी में कहा- ‘मैं ना तो सनातन विरोधी नारे लगा सकता हूं ना ही सुबह शाम देश के वेल्थ क्रिएटर को गाली दे सकता हूं.’

अपराध का भागी नहीं बनना चाहता- गौरव वल्लभ

अपनी चिट्ठी में उन्होंने लिखा, ‘भावुक हूं. मन व्यथित है. काफी कुछ कहना चाहता हूं, लिखना चाहता हूं. बताना चाहता हूं. लेकिन मेरे संस्कार ऐसा कुछ भी करने से मना करते हैं जिससे दूसरों को कष्ट पहुंचे. फिर भी मैं आज अपनी बातों को आपके समक्ष रख रहा हूं, क्योंकि मुझे लगता है कि सच को छुपाना भी अपराध है और मैं अपराध का भागी नहीं बनना चाहता हूं.’

ये भी पढ़ें: Lok Sabha Election 2024: पीएम मोदी की रैली से पहले तेजस्वी यादव ने खोला ‘BJP के परिवारवाद का चैप्टर’, जारी की सूची, कहा- ‘आशा है PM जिक्र करेंगे’

उन्होंने कहा, ‘जब मैंने कांग्रेस पार्टी ज्वाइन किया तब मेरा मानना था कि कांग्रेस देश की सबसे पुरानी पार्टी है. लेकिन पिछले कुछ वर्षों में मुझे यह महसूस हुआ कि पार्टी का मौजूदा स्वरूप नए आइडिया वाले युवाओं के साथ खुद को एडजस्ट नहीं कर पाती. पार्टी का ग्राउंड लेवल कनेक्ट पूरी तरह से टूट चुका है, जिसके कारण न तो पार्टी सत्ता में आ पा रही और ना ही मजबूत विपक्ष की भूमिका निभा पा रही है.’

ज़रूर पढ़ें