Lok Sabha Election 2024: चुनाव नहीं लड़ेंगी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, BJP के प्रस्ताव पर कहा- ‘मेरे पास पैसा नहीं’

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव के लिए दूसरे चरण का नामांकन शुरू होने से पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है.

Nirmala Sitharaman

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (फोटो- सोशल मीडिया)

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव से पहले चरण का नामांकन बुधवार को खत्म हो गया. अब गुरुवार से दूसरे चरण का नामांकन शुरू हो रहा है. लेकिन दूसरे चरण का नामांकन शुरू होने से पहले केंद्रीय वित्त मंत्री और बीजेपी नेता निर्मला सीतारमण ने चुनाव नहीं लड़ने का संकेत दिया है. उन्होंने चुनाव लड़ने से संबंधित बीजेपी के प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया है.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने चुनाव नहीं लड़ने की वजह भी बताई है. वजह बताते हुए उन्होंने कहा, ‘उनके पास लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए उस तरह का फंड नहीं है.’ वित्त मंत्री ने कहा कि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने उन्हें चुनाव लड़ने का विकल्प दिया था. राष्ट्रीय अध्यक्ष ने आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु से चुनाव लड़ने का प्रस्ताव दिया था.

अपने कार्यक्रम में निर्मला सीतारमण ने कहा, ‘मैंने करीब एक हफ्ते से दस दिनों तक पार्टी के इस प्रस्ताव पर विचार किया था. इसके बाद मैंने जवाब दिया कि शायद नहीं. मेरे पास चुनाव लड़ने की लिए उस तरह का पैसा नहीं है. बात चाहे आंध्र प्रदेश की हो या तमिलनाडु की हर जगह जीतने के लिए अगल-अलग मापदंड होते हैं.’

वित्त मंत्री के पास चुनाव लड़ने का पैसा नहीं?

उन्होंने अपने बयान में कहा, ‘मुझे लगता है मैं ऐसा करने में सक्षण नहीं हूं. मैं बहुत आभारी हूं कि पार्टी और अध्यक्ष ने मेरी दलील स्वीकार कर ली है. इसी वजह से मैं चुनाव नहीं लड़ रही हूं.’ निर्मला सीतारमण से पूछा गया कि देश के वित्त मंत्री के पास अपने चुनाव लड़ने के लिए फंड क्यों नहीं है. इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा, ‘मेरा वेतन, मेरी कमाई और मेरी बचत मेरी है. देश की संचित निधि नहीं है.’

ये भी पढ़ें: Lok Sabha Election: गुजरात के इस जगह पर सिर्फ एक वोटर के लिए बनेगा पोलिंग बूथ, 15 चुनाव अधिकारियों की मौजूदगी में होगी वोटिंग

बता दें कि बीजेपी ने इस बार कई केंद्रीय मंत्री जो अभी राज्यसभा के सदस्य हैं उन्हें चुनावी मैदान में उतारा है. पार्टी ने बीते राज्यसभा चुनाव के दौरान उन्हें अपना उम्मीदवार नहीं बनाया था.

ज़रूर पढ़ें