Lok Sabha Election 2024: पप्पू यादव ने पूर्णिया से चुनाव लड़ने का किया ऐलान, 2 अप्रैल को करेंगे नामांकन, महागठबंधन में बिगड़ेगी बात!

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव के लिए बिहार के महागठबंधन में सीट शेयरिंग की डील तो फाइनल हो गई, लेकिन पूर्णिया सीट पर पेंच फंस गया है.

Pappu Yadav

पूर्व सांसद पप्पू यादव (फोटो0 सोशल मीडिया)

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव के लिए बिहार के महागठबंधन में सीट शेयरिंग का मामला फाइनल हो चुका है. आरजेडी  26, कांग्रेस 9 और लेफ्ट को 5 सीटें मिली हैं. लेकिन पूर्णिया सीट पर पेंच फंस गया है. RJD कोटे में गई सीट से पप्पू यादव चुनाव लड़ने पर अड़ गए हैं. उन्होंने कहा कि मेरी कोशिश रहेगी कि कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर ही चुनाव लडूं. हालांकि, यह सीट लालू यादव की पार्टी के पास है और आरजेडी यहां से बीमा भारती को उम्मीदवार के रूप में घोषणा कर चुकी है.

लोकसभा चुनाव से पहले पप्पू यादव ने अपनी पार्टी जनाधिकार पार्टी (जाप) को कांग्रेस में विलय कर दिया है. इससे पहले उन्होंने पटना में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव से मुलाकात किए थे. उसके अगले ही दिन वह दिल्ली पहुंचकर शीर्ष नेताओं के मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल हो गए.

ये भी पढ़ें- Lok Sabha Election: ‘विपक्षी गठबंधन बनाने का आइडिया नीतीश का नहीं’, खड़गे का बड़ा दावा, बोले- राहुल ने कहा था सभी को करना है इकट्ठा

“हमारा पार्टियों से गठबंधन है”

इधर, पूर्णिया से पप्पू यादव के लड़ने के ऐलान पर आरजेडी नेता और पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने कहा कि हमारा पार्टियों से गठबंधन है. व्यक्ति विशेष से नहीं. तेजस्वी शुक्रवार शाम दिल्ली से पिता लालू यादव, बहन मीसा भारती के साथ पटना पहुंचे. उन्होंने पटना एयरपोर्ट पर महागठबंधन की सीट शेयरिंग को लेकर पत्रकारों से कहा कि हमारा पांच पार्टियों से गठबंधन है. एनडीए में तो कई लोगों को जगह ही नहीं मिली है.

पूर्णिया से चुनाव लड़ने पर अडिग हैं पप्पू यादव

शुक्रवार को इसकी विधिवत घोषणा के बाद भी पप्पू यादव पूर्णिया सीट से चुनाव लड़ने की बात पर अडिग हैं. और तो और वे कांग्रेस का साथ भी नहीं छोड़ेंगे.
पप्पू यादव लगातार केंद्रीय नेतृत्व के संपर्क में हैं और पूर्णिया में दोस्ताना संघर्ष के आसार भी बन रहे हैं. सीटों की घोषणा के बाद पप्पू यादव ने मीडिया से बातचीत में कहा कि पूर्णिया की जनता का आदेश है कि वे यहां से चुनाव लड़ें. लोकतंत्र में जनता सर्वोपरि होता है और जनता के आदेश का पालन हर हाल में होगा. वे केंद्रीय नेतृत्व के जबाब का इंतजार कर रहे हैं.

ज़रूर पढ़ें