Lok Sabha Election: बीजेपी ने प्रत्याशियों के अपराधों की दी जानकारी, इन दो उम्मीदवारों के खिलाफ दर्ज मामले की डिटेल की सार्वजनिक

Chhattisgarh News: बता दें कि निर्वाचन आयोग के निर्देश के मुताबिक सभी दलों के प्रत्याशियों को अपने ऊपर दर्ज आपराधिक मामले को सार्वजनिक करनी है. पार्टियों को बताना होगा कि नेताओं पर आपराधिक मामले दर्ज होने के बावजूद उन्हें प्रत्याशी क्यों बनाया गया.

Chhattisgarh News

बीजेपी(फाइल फोटो)

 

Lok Sabha Election: लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा ने दो लोकसभा प्रत्याशियों के खिलाफ दर्ज आपराधिक मामले को सार्वजनिक किया है. पार्टी की तरफ से बृजमोहन अग्रवाल और संतोष पांडे के खिलाफ दर्ज हुए आपराधिक मामले की जानकारी सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी दी है. भाजपा पहले ही छत्तीसगढ़ के 11 लोकसभा सीटों के लिए प्रत्याशियों का ऐलान कर चुकी है. भाजपा ने बताया है कि मुकदमों में घिरे इन नेताओं को ही लोकसभा चुनाव 2024 में टिकट क्यों दी गई है?

दोनों प्रत्याशियों पर इन मामलों में चल रहा मुकदमा

राजनांदगांव से भाजपा प्रत्याशी संतोष पांडेय पर कवर्धा में हुए धार्मिक उन्माद के दौरान केस दर्ज हुआ था. भाजपा ने बताया कि संतोष पांडे के खिलाफ कवर्धा में मुकदमा चल रहा है. बता दें कि वर्ष 2021 में कवर्धा में दो समुदायों के बीच सांप्रदायिक सौहार्द बिगड़ गया था. पार्टी से मिली जानकारी के अनुसार मंत्री और रायपुर से भाजपा प्रत्याशी बृजमोहन अग्रवाल पर साल 2003 में आपराधिक मुकदमा दर्ज हुआ था. इन दोनों नेताओं पर दर्ज मुकदमे को भाजपा ने राजनीति से प्रेरित बताया है.

बता दें कि रायपुर से बृजमोहन अग्रवाल भाजपा के लोकसभा उम्मीदवार हैं. बृजमोहन अग्रवाल फिलहाल प्रदेश सरकार में मंत्री हैं. वे लगातार आठ बार विधायक रहे हैं. बृजमोहन अग्रवाल प्रदेश भाजपा के सबसे कद्दावर नेताओं में से एक माने जाते हैं. वहीं राजनांदगांव से भाजपा प्रत्याशी संतोष पांडे वर्ष 2019 में राजनांदगांव से सांसद बने थे. इस बार भी पार्टी ने उन्हें टिकट दिया है.

ये भी पढ़ें – बेमौसम बारिश से फसलों को हुआ नुकसान, सीएम साय ने किसानों के लिए कही ये बात

रायपुर और राजनांदगांव दोनों ही हाई प्रोफाइल सीट

लोकसभा चुनाव के लिए छत्तीसगढ़ में रायपुर और राजनांदगांव दोनों ही हाई प्रोफाइल सीट मानी जा रही है. राजनांदगांव से कांग्रेस ने इस बार पूर्व सीएम भूपेश बघेल को चुनावी मैदान में उतारा है. वहीं रायपुर से AICC के राष्ट्रीय सचिव विकास उपाध्याय कांग्रेस उम्मीदवार हैं.

बता दें कि निर्वाचन आयोग के निर्देश के मुताबिक सभी दलों के प्रत्याशियों को अपने ऊपर दर्ज आपराधिक मामले को सार्वजनिक करनी है. पार्टियों को बताना होगा कि नेताओं पर आपराधिक मामले दर्ज होने के बावजूद उन्हें प्रत्याशी क्यों बनाया गया. इसी कड़ी में भाजपा के नेताओं का यह ब्यौरा सामने आया है. आने वाले समय में और भी दलों के नेताओं का आपराधिक ब्यौरा सामने आएगा.

ज़रूर पढ़ें