MP News: दलबदल का सिलसिला जारी, अब पूर्व विधायक यादवेन्द्र सिंह होंगे भाजपा में शामिल!

Yadvendra Singh to join BJP: पूर्व विधायक यादवेन्द्र सिंह का जिले में अच्छा वर्चस्व है और उनकी भाजपा में शामिल होने से कांग्रेस को बड़ा झटका मिल सकता है.

YADAVENDRA-SINGH

नागौद के पूर्व विधायक यादवेंद्र सिंह (फोटो- सोशल मीडिया)

भोपाल: लोकसभा चुनावों के बस कुछ ही दिन शेष रह गए हैं, और नेताओं की पार्टियां बदलने की चर्चा जारी है. नागौद के पूर्व विधायक यादवेन्द्र सिंह अब भाजपा में शामिल होने की तैयारी में हैं. उन्होंने 2023 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस से इस्तीफा दिया था और बीएसपी के टिकट पर चुनाव लड़ा था, लेकिन जीत नहीं मिल पाई, अब उन्होंने फिर से पार्टी बदलने का फैसला कर लिया है.

यादवेन्द्र सिंह नागौद विधानसभा सीट से विधायक रहे हैं. 2018 के विधानसभा चुनावों में उन्हें भाजपा के पूर्व मंत्री नागेन्द्र सिंह से हार मिली थी. इसके बाद उन्हें विधानसभा चुनाव 2023 में टिकट नहीं मिलने पर कांग्रेस पर उपेक्षा का आरोप लगाया और इस्तीफा दे दिया था.

कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद विधानसभा चुनाव 2023 बीएसपी के टिकट पर लड़ते समय यादवेन्द्र सिंह ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया था और कांग्रेस प्रत्याशी को पीछे छोड़ते हुए दूसरे स्थान पर रहे थे. उनका जिले में अच्छा वर्चस्व है और उनकी भाजपा में शामिल होने से कांग्रेस को बड़ा झटका मिल सकता है. 2018 उनकी जीत का अंतर मात्र 1200 वोट था.

ये भी पढ़े: वाइस क्लोन के जरिये लूट लिए 50 हजार, परिवार वाले रह गए हैरान, जानें पूरा मामला

यादवेन्द्र सिंह की बहु नागौद नगर पंचायत की अध्यक्ष भी हैं. उनकी राजधानी भोपाल में भाजपा कार्यालय में सीएम मोहन यादव की उपस्थिति में BJP में शामिल होने की संभावना है. उनके साथ उनके समर्थक भी भाजपा में शामिल हो सकते हैं.

कांग्रेस नेता अजय सिंह राहुल के खास माने जाते हैं यादवेन्द्र सिंह

सतना लोकसभा सीट से भाजपा और कांग्रेस ने अपने प्रत्याशी उतारे हैं. अब पार्टी के नेताओं को रूठों को मनाना पड़ रहा है. जब यादवेन्द्र सिंह ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया था, तो कई गंभीर आरोप लगाए गए थे. यादवेन्द्र सिंह को कांग्रेस नेता अजय सिंह राहुल का बहुत खास माना जाता है.

वहीं, प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष लालचंद गुप्ता ने भी पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने पार्टी के सीनियर नेताओं पर गंभीर आरोप लगाए हैं और स्वार्थी होने का आरोप लगाया है.

ज़रूर पढ़ें